उत्तरप्रदेशके2.70करोड़बिजलीउपभोक्ताओंकेलिएराहतकीखबरहै।नियामकआयोगनेबिजलीकंपनियोंकेरेटबढ़ानेकेप्रस्तावकोखारिजकरदियाहै।बिजलीकंपनियोंनेप्रदेशमें10से12फीसदीरेगुलेटरीसरचार्जबढ़ानेकाप्रस्तावआयोगमेंदियाथा।इसपरकरीबएकमहीनेतकसुनवाईचलीथी।उसकेबादफैसलासुरक्षितरखलियागयाथा।दरअसल,बिजलीकंपनियोंनेउपभोक्ताओंपर49हजारकरोड़रुपएसेज्यादाकाबकायादिखाकर12%तकबिजलीदरोंकोबढ़ानेकाप्रस्तावरखाथा।

गुरुवारकोनियामकआयोगकीओरसेइसकोलेकरआदेशजारीकरदियागया।इसमेंफिलहालकोईरेटनहींबढ़ानेकीबातकहीगईहै।उसकेअलावाउपभोक्ताओंकाबिजलीकंपनियोंपरकरीब1059करोड़रुपएभीनिकलेहैं।

उप्रराज्यविद्युतउपभोक्तापरिषदकेअध्यक्षअवधेशवर्माउपभोक्ताओंकीओरसेइसमामलेपरलड़ाईलड़रहेथे।उन्होंनेइसेपूरेप्रदेशकेउपभोक्ताओंकीजीतबतायाहै।उन्होंनेकहाकियहलड़ाईयहींखत्मनहींहोतीहै।इसकोआगेभीजारीरखाजाएगा।अभीउपभोक्तापरिषदफिरदरोंमेंकमीकेलिएपुनर्विचारयाचिकादाखिलकरेगा।इसकेअलावाउपभोक्ताओंकाअबतककुलनिकलेलगभग20559करोड़केएवजमेंकमीकामालाभीउठाएगा।

आयोगकीटीमनेदियाफैसला

विद्युतनियामकआयोगचेयरमैनआरपीसिंहवसदस्यगणकेकेशर्माएवंवीकेश्रीवास्तवकीपूर्णपीठनेयहफैसलासुनायाहै।कहागयाहैकिसाल2021-22केलिएबिजलीदरोंमेंकोईभीबदलावनहींकियाजाएगा।वर्तमानलागूटैरिफहीआगेभीलागूरहेगी।यहांतककीवर्ष2021-22वट्रू-अप2019-20केलिएबिजलीकम्पनियोंद्वारानिकालीगयीभारीभरकमधनराशिकोसमाप्तकरदियागयाहै।

12%दरेंबढ़ानेकाप्रस्तावथा

बिजलीकंपनियोंनेउपभोक्ताओंपर49हजारकरोड़रुपएसेज्यादाकाबकायादिखाकर12%तकबिजलीदरोंकोबढ़ानेकाप्रस्तावरखाथा।इसकोलेकरविद्युतनियामकआयोगमेंदोबारचर्चाभीहुईथी।उप्रराज्यविद्युतउपभोक्तापरिषदनेइसकाविरोधकरतेहुएउल्टेदलीलदीथीकिउपभोक्ताओंकोहीइनकंपनियोंपरकरीब19हजारकरोड़रुपएकाबकायानिकलरहाहै।

ऐसेमेंपरिषदने3से8फीसदीतकबिजलीकीदरोंकोतीनसालकेलिएकमकरनेकीमांगकीथी।आयोगकाफैसलाजूनकेपहलेसप्ताहमेंआनाथा।उसमेंमानाजारहाथाकिमहंगाईकोदेखतेहुएकीमतेंभीबढ़ेंगी।हालांकि,उससेपहलेहीमुख्यमंत्रीनेबिजलीकंपनियोंकाप्रस्तावखारिजकरदिया।

यूनिटवर्तमानरेट(कामर्शियल)

0-150-5.50/यूनिट

151-300-6.00/यूनिट

301-500-6.50/यूनिट

500-7.00/यूनिट

यूनिटवर्तमानरेट(घरेलू,ग्रामीण)

0-100"3.35/यूनिट0-100

101-150"3.85/यूनिट

151-300"5.00/यूनिट

घरेलूउपभोक्ताओंकेलिए

0-100यूनिट-3.35रुपए101से150-3.85रुपए151से300-5रुपए301से500-5.50रुपए500सेज्यादा-600रुपए