बलरामपुर:गरीबीसेजूझरहेजिलेमेंकिसानोंकीदशासुधारनेकीजिम्मेदारीयहांबेटियांभीउठारहींहैं।सदर,श्रीदत्तगंज,उतरौला,रेहराबाजार,तुलसीपुर,गैंसड़ीब्लाकोंमेंग्रामपंचायतवारतैनात300बेटियांहैं,जोगांव-गांवजाकरउन्नतशीलकिसानीकेढंगसिखारहीहैं।

खासबातयहहैकिवहकिसानोंकोनकेवलकमलागतमेंउन्नतखेतीकेतरीकेबतारहींहैं,बल्किभूगर्भकेगिरतेजलस्तरकोदेखतेहुएकमपानीवकमलागतमेंअधिकफसलउत्पादनकेतरीकेबतारहीहै।पलेवाकीजगहनमीवालेखेतमेंधानकीनर्सरीलगाने,क्यारीबनाकरधानकीसिचाई,मचानविधिसेसब्जीकीखेतीसमेतकईआधुनिकतरीकोंसेखेतीकरनेकीजानकारीदेनेकेसाथहीबेटियांजरूरतपड़नेपरकिसानोंकीवैज्ञानिकोंसेआनलाइनरूबरूभीकरारहीहैं।यहीनहीं,वहकृषिविभागसमेतअन्यकल्याणकारीयोजनाओंकीजानकारीदेकरउन्हेंयोजनाओंकालाभदिलानेमेंअहमभूमिकाअदाकररहीहैं।

एकबीघेमेंउगाई46हजारकीसब्जी:

बेटियोंवमहिलाओंकेजागरूकताकापरिणामरहाकिरेहरामेंनयानाथनगरमेंमचानविधिसेमहिलाकिसानगीतामौर्यानेएकबीघेमें46हजारकीसब्जीबेंचडाली।यहांकिसानोंकोजागरूककरनेकादायित्वसंभालरहीदयावतीनेबतायाकिवहकिसानोंकोसालभरमेंचारफसललेनेकेतरीकेसिखातीहै।महिलाकिसानगीतानेएकबीघाखेतमेंऊपरलौकीवतरोईतथानीचेप्याजकीफसलउगाई।मचाननिर्माणमेंउसके20हजाररुपयेखर्चहुए,लेकिन46हजारकीसब्जीतैयारकी।

गैंसड़ीकेलठावरमेंकुसुममौर्यखेतीकेआधुनिकतरीकेसिखारहींहैं।वहगंगोत्रीसमेत200सेअधिकमहिलाकिसानोंकोलाभलेनेकेलिएप्रेरितकरचुकीहै।खेतीमेंजागरूकतालानेकेलिएकार्यकररहीएकनिजीसंस्थाकेप्रबंधकराजीवमिश्रकाकहनाहैकिजिलेमें300बेटियांकिसानोंकोजागरूककररहीहैं,जिससेस्थितिसुधररहीहै।