नईदिल्ली,17अप्रैल:रूस-यूक्रेनयुद्धनेदुनियाकोनएतरीकेसेसोचनेकोमजबूरकरदियाहै।भारतभीउनसेअलगनहींहै।ऐसेसमयमेंजबरूसजैसीमहाशक्तिलगभगपौनेदोमहीनेबादभीयूक्रेनकोहथियारनहींडलवापायाहैतोकमताकतवरहोनेकेबावजूदयूक्रेनकेयुद्धकौशलकीदाददेनीपड़ेगी।बहरहाल,इन्हींवैश्विकपरिस्थितियोंकेबीचनईदिल्लीमेंसेनाकेटॉपकमांडरोंकाएकसम्मेलनआयोजितकियागयाहै,जिसकेएजेंडेमेंदेशीसीमाओंपरहालातकीसमीक्षाकरनातोहैही,हरपलबदलरहेवैश्विकमाहौलकाभीसशस्त्रसेनाकेनजरिएसेविश्लेषणकरनाहै।इस5दिवसीयसम्मेलनमेंरक्षामंत्रीराजनाथसिंहकेभीपहुंचनेकीसंभावनाहै।