नईदिल्ली[नेमिषहेमंत]। मकरसंक्रांतिकेसाथशादियोंकामौसमआगयाहै,लेकिनदिल्लीकेथोकबाजारचांदनीचौकमेंरौनकनहींहै।यहांकपड़ोंकी50हजारसेअधिकतोज्वेलरीकी1,500सेअधिककारोबारीप्रतिष्ठानहैं,जिन्हेंशादियोंकेमौसमकाबेसब्रीसेइंतजाररहताहै,लेकिनकोरोनासंक्रमणकेमद्देनजरलगाईगईपाबंदियोंकेकारणतकरीबन372वर्षपुरानेइसबाजारमेंकोईरौनकनहींहै।सम-विषम(इवेन-आड)आधारपरएकदिनछोड़करदुकानेंखोलनेकेआदेशकेसाथवीकेंडकर्फ्यूकेचलतेदुकानेंकोहफ्तेमेंदोसेतीनदिनहीखोलनेकामौकामिलपारहाहै।ऊपरसेशादीसमारोहमें20लोगोंकीमौजूदगीकाहीआदेशहै।इनसबकाअसरयहांकेकारोबारपरहै।यहांखरीदारीकरनेदिल्ली-एनसीआरकेसाथहीनजदीककेराज्योंसेभीखुदराखरीदारऔरदुकानदारआतेहैं।खासकरदिल्ली-एनसीआरकेलोगोंकेलिएचांदनीचौककेबिनाशादियोंकीतैयारीअधूरीमानीजातीहै।वैसे,इसवर्षलगातारजुलाईमाहतकशादियोंकालग्नहै।ऐसेमेंसंक्रमणकमहोनेऔरपाबंदियोंमेंढीलसेकारोबारमेंसुधारकीउम्मीदहै।

20हजारकरोड़रुपयेकीशादीकीबिक्रीकोझटका

बिक्रीमुश्किलसे20से30प्रतिशतहीहै।एकअनुमानकेमुताबिकइनपाबंदियोंसेतकरीबन20हजारकरोड़रुपयेकेशादीकेकारोबारकोझटकालगाहै।वैसे,राष्ट्रीयराजधानीमेंदोदिनोंमेंनएसंक्रमणकेमामलेघटेहैं।इसकेसाथहीयेकमघातकहै।ऐसेमेंदुकानदारोंकोउम्मीदहैकिइनपाबंदियोंसेउन्हेंकुछराहतमिलजाएगी।वेसम-विषमकेमामलेमेंतत्कालराहतचाहतेहैं।उनकाकहनाहैकिइसकेचलतेग्राहकोंकीसंख्याकाफीकमहोगईहै।इसकेचलतेउत्तरप्रदेश,उत्तराखंड,पंजाब,हरियाणा,हिमाचलप्रदेशराजस्थानजैसेनजदीककेराज्योंकेव्यापारीखरीदारीकेलिएसूरत,गांधीनगरवकोलकाताजैसेशहरोंकारुखकररहेहैं।

एकसालतकमालकेफंसेरहनेकाअंदेशा

दिल्लीहिंदुस्तानीमर्केंटाइलएसोसिएशनकेवरिष्ठउपाध्यक्षश्रीभगवानबंसलकहतेहैंकिचांदनीचौककेकपड़ाकारोबारीकाअकेले10हजारकरोड़रुपयेकाकारोबारप्रभावितहै।उन्होंनेकहाकिऐनशादियोंकेवक्तपरसंक्रमणबढ़नेतथापाबंदियोंकेचलतेयहांकेथोकदुकानदारोंकोबड़ानुकसानहोरहाहै।क्योंकि,यहमौसमसर्दियोंकाहैऔरशादियोंकेकपड़ेभीइसीकोध्यानमेंरखकरआएहैं।खासकरमहिलासूट,पुरुषसूट,शालवदुपट्टाजैसेकपड़ेठंडीकोध्यानमेंरखकरमंगाएगएहैं।इनकीबिक्रीइसीमौमसमेंहोसकतीहै।अभीनहींबिकातोअगलेवर्षकेसर्दियोंमेंहीबिकेगा।इससेस्टाककेसाथबड़ेस्तरपरपूंजीफंसजाएगी।बंसलकहतेहैंकिमौजूदालहरसभीराज्योंमेंहै,लेकिनदिल्लीकीतरहअन्यराज्योंमेंसख्तीनहींहै।इसलिएदूसरेराज्योंसेआनेवालेग्राहकउनराज्योंमेंआर्डरदेरहेहैं।यहचिंताकाविषयहै।इसलिएसरकारकोकोईबीचकारास्तानिकालनाचाहिए।

पाबंदीसेखरीदारोंमेंदहशत

ज्वेलरीकेथोकबाजारकूचामहाजनीकेज्वेलर्सकेसंगठनदबुलियनएंडज्वेलर्सएसोसिएशनकेचेयरमैनबृजेशगोयलनेकहाकिहरतरफसेपाबंदियोंसेखरीदारोंमेंदहशतहै।इसलिएवेखरीदारीकरनेनहींआरहेहैं।इसकाअसरयहपड़ाहैकिकूचामहाजनीऔरदरीबाकलांमें1,500सेअधिकज्वेलर्सकेकारोबारीप्रतिष्ठानोंसेबिक्रीबमुश्किल20प्रतिशतहीरहगईहै।सैकड़ोंकरोड़रुपयेकाकारोबारप्रभावितहोरहाहै।वहकहतेहैंकिपाबंदियोंसेसंक्रमणबढ़नेसेरोकनेमेंभीज्यादालाभनहींमिलरहाहै,क्योंकिबाजारकीदुकानेंबंदहैतोफुटपाथऔरगलियोंमेंरेहड़ी-पटरीवालोंकीसंख्याबढ़गईहै।

By Edwards