गोरखपुर,जागरणसंवाददाता।जिलामुख्यालयसेसटेपिपराइचविधानसभाक्षेत्रमेंपिछलेपांचवर्षोंमेंशिक्षाव्यवस्थापूरीतरहपटरीपरआगईहै।कायाकल्पयोजनाकेतहतजहांस्कूलचाक-चौबंदहोगएहैंवहींबच्चोंकीसंख्याभीबढ़ीहै।पठन-पाठनकीगुणवत्तामेंसुधारकरअंदाजाइसीसेलगायाजासकताहैकिक्षेत्रकेआराजीबसडीलासमेतकईस्कूलोंकोछात्रोंकानामांकनमानकसेअधिकहोजानेकेकारणनोएडमिशनकाबोर्डतकलगानापड़ा।

स्कूलोंमेंपढ़नेवालेबच्चोंकोकापी-किताबसेलेकरयूनीफार्मतकमुफ्तमिलनेसेआर्थिकसेजूझरहेअभिभावकहालकेवर्षोंमेंसरकारीस्कूलोंकीतरफअधिकआकर्षितहुएहैं।स्कूलोंमेंनामांकनकराकरवहअपनेपाल्योंकीपढ़ाईकीचिंतासेमुक्तहोगएहैं।बच्चेंभीपूरीईमानदारीसेनियमितविद्यालयआतेहैंऔरपढ़ाईकरतेहैं।वर्ष2017केपहलेजिनस्कूलोंमेंशिक्षकोंकीकमीकेकारणपढ़ाईनहींहोतीथी,आजवहांशिक्षकोंकीतैनातीहोजानेसेनसिर्फनियमितकक्षाएंसंचालितहोरहींहैंबल्किपठन-पाठनकीगुणवत्ताभीसुधरीहै।

स्मार्टक्लासकीसुविधासेलैसहुएआधादर्जनविद्यालय

विधानसभाक्षेत्रकेविद्यालयोंमेंसेअधिकांशविद्यालयबुनियादीसुविधाओंसेचाक-चौबंदहोचुकेहैं।इनमेंसेआधादर्जनविद्यालयइससमयस्मार्टक्लासकीसुविधासेलैसहोचुकेहैं।यहांकेबच्चेप्रोजेक्टरकेजरियेएलईडीस्क्रीनपरपढ़ाईकरतेथे।स्मार्टक्लाससेलैसहोनेवालेविद्यालयोंमेंकंपोजिटपूर्वमाध्यमिकविद्यालयउसका,प्राथमिकविद्यालयआराजीबसडीला,पूर्वमाध्यमिकविद्यालयआराजीबनकट,प्राथमिकविद्यालयकुसम्हीबाजार,कंपोजिटपूर्वमाध्यमिकविद्यालयकरमैनीतथाप्राथमिकविद्यालयचनगहीशामिलहैं।

येहुईंसुविधाएं

By Dyer