लखीसराय।लखीसरायजिलेकेग्रामीणइलाकेमेंरहनेवालीमहिलाएंअपनेबलपरसशक्तबनरहीहै।तमामसरकारीयोजनाओंकेबावजूदगांवकीमहिलाएंपरंपरागतरोजगारकेबलपरखुदकालोहामनवारहीहैं।प्रखंडकेनक्सलप्रभावितगांवोंमेंयेमहिलाएंकिसीभीक्षेत्रमेंपुरूषोंसेपीछेनहींहै।मेहनतकरखुदकेहुनरसेआर्थिकउपार्जनकरनेवालीयेमहिलाएंसमाजकीकमजोरमहिलाओंकेलिएप्रेरणाश्रोतबनबैठीहै।गांवएवंक्षेत्रकेपुरूषभीइनमहिलाओंकालोहामानरहेहैं।महिलाएंनसिर्फघरकासाराकाम-काजकररहीहैबल्किजंगलसेपत्तालाकरउसेपत्तलकारूपदेरहीहै।फिरउसेबाजारमेंबेचकरप्राप्तराशिसेअपनेबच्चोंकेलिएसुखदमंजिलकीतलाशमेंजुटीहै।चाननप्रखंडक्षेत्रकेकुंदरपंचायतअंतर्गतआदिवासीगांवजगुआजोर,गोबरदाहा,गोरधोबा,भलूईपंचायतकेचेहरौनकोड़ासी,बासकुंड,सतघनवा,महजौनमां,संग्रामपुरपंचायतकेकछुआ,प्रखंडकीसीमारेखापरस्थितकजराथानाक्षेत्रकेजंगलवपहाड़ोंकेबीचसेनिकलेआदिवासीगांवनयाटोलाबरमसिया,नयाटोलाबकुरा,सिमरातरीकोड़ासीआदिगांवोंकीलगभगतीनसौसेअधिकमहिलाएंइसस्वरोजगारमेंलगीहुईहै।नयाटोलाबरमसियानिवासीबुधौलीबनकरपंचायतसेमुखियाप्रत्याशीरहीगीतादेवी,इंटरपासमहिलापुतुलकुमारी,चमेलीदेवी,कारीदेवी,रेखादेवीआदिनेबतायाकिहमलोगजंगलोंवपहाड़ोंकेबीचसेमैदानीभागमेंआकरबसगएलेकिनसरकारकीयोजनासेअबभीदूरहैं।यहांकोईस्वयंसहायतासमूहगठितनहींहैऔरनहीजीविकासेवेलोगजुड़पाईहै।हमलोगकठिनपरिश्रमकरकेस्वरोजगारकरकेपरिवारकोपालरहेहैं।नयाटोलाबरमसियामें70से80घरोंमेंलगभगपांचसौसेअधिककीआबादीवासकरतीहै।पुरूषलोगजंगलसेलकड़ीकाटकरबाजारमेंबेचतेहैंतोमहिलापत्तलबनाकरएवंदातुनबेचनेकाकामकरतीहै।

By Elliott