अरविंदवाबले।प्रकृतिकेसंरक्षणकेप्रतिकर्नाटककेबेंगलुरुके9वर्षकेअधृतप्रदीपकाएकजुनूनहै।वहमानतेहैंकिछोटेसेछोटेजीवकाभीइसपृथ्वीपरएकप्रयोजनहै।विश्वकेसबसेबड़ेउपवनऔररॉयलबंगालटाइगरकोशरणदेनेवालेएकमात्रउपवनपर्यावासकोनयाजीवनदेनेकेलिए,पश्चिमबंगालकेसुंदरवनमें40वर्षीयउमाशंकरमंडलनेउपवनके6.5लाखपौधेलगाएहैं।

बेंगलुरुकी23वर्षकीसाक्षीएम.कृष्णानेजलवायुनीतिमेंसंकटग्रस्तसमूहों,सुविधावंचितमहिलाओंऔरस्थानीयलोगोंकाप्रतिनिधित्वकरनेवालेएकसामाजिकउपक्रम'माईअर्थ'कागठनकिया।अधृत,उमाशंकरऔरसाक्षीपूरेभारतकेलिएसंरक्षणनायकहैं,जिनकेजलवायुपरिवर्तनकोरोकनेकेजोशपूर्णकार्यअर्थऑवर2022कीथीम-'अपनाभविष्यसंवारिए'काप्रेरणास्रोतहैं।

आजजबभारतस्वतंत्रताके75वर्षपूरेकररहाहै,हमभारतमेंअर्थआवरकाउत्सवइसवर्षएकस्थायीभविष्यकामार्गदिखानेवालेपर्यावरणकेअनामनायकोंमेंसेकईनायकोंकासम्मानकरतेहुएमनारहेहैं।हरवर्षमार्चकेआखिरीशनिवारको,अर्थऑवरविश्वकाध्यानहमारीपृथ्वीऔरउसकेप्राकृतिकपर्यावासोंकेस्वास्थ्यकीओरआकृष्टकरताहै।पर्यावरणकीसुरक्षाकीआवश्यकतापरबलदेनेहेतुलगभग190सेअधिकदेशोंकेलोगवजनतास्वेच्छासेअनावश्यकबत्तियोंकोपूरेएकघंटेकेलिएबंदकरदेतेहैं।विश्वभरमेंएकघंटेकेलिएएकसाथबत्तियोंकोबंदकरनाएकमात्रबड़ाअवसरहै,जोअपनेसंदेशमेंआसान,समावेशीऔरशक्तिशालीहै।मार्च,2007मेंअपनीशुरुआतकेसमयसे,अर्थआवरनेजलवायुपरिवर्तनसंरक्षणकोबलदेनेमेंसहायताऔरसुधारकरनेकीप्रेरणादीहै,जोआजसमस्तविश्वमेंचर्चाकाकेंद्रहै।

अर्थआवरकीसुंदरताउससहजतामेंछिपीहै,जिससेविश्वकेकिसीभीकोनेसेकोई8वर्षीयबालकऔरकोई80वर्षीयवृद्धभागलेसकताहै,अपनेदैनिककार्योंपरपुनर्विचारकरसकताहैऔरइसअमूल्यपृथ्वीपरएकहल्काफुटप्रिंटछोड़नेकेलिएजीवनशैलीमेंछोटे,कदम-दर-कदमपरिवर्तनकरसकताहै।

बीतेदोवर्षोंकेदौरानविश्वव्यापीघातकमहामारीनेनिस्संदेहपर्यावरणकोतबाहकरडालाहै,जिसकाघातकपरिणाममानवजातिपरपड़ाहै।बीतेकुछवर्षोंमेंपर्यावरणीयआपदाओंनेअपनेपरिणामकेरूपमेंमृत्युऔरविनाशकाचिह्‌नछोड़ाहै,जिसकेफलस्वरूपलाखोंलोगजलवायुशरणार्थीहोचलेहैं।इसवर्षएकयुद्धछिड़चलाहै,जिसकेपरिणामहमेंअभीदेखनेहैं।

अर्थआवर2022हममेंसेप्रत्येककोजैवविविधताकासंरक्षणऔरपोषणकरनेतथाविनाशकारीआपदाओंकोसमयरहतेरोकनेकीअपीलकरनेकीशक्तिदेताहै।यहनागरिकोंकीअपीलहै,इसमेंसरकारकीकिसीभीकार्यवाहीसेबढ़करनिजीतौरपरकदमउठानेकीजरूरतहै।यहपर्यावरणकीदृष्टिसेएकअनुकूलजीवनशैलीअपनानेमेंहमारीसहायताकेलिएसरलकिंतुप्रभावकारीविकल्पोंकाचयनकरनेकाहमसभीकोएकअवसरप्रदानकरताहै।यहांकुछसुझावप्रस्तुतहैं,जिन्हेंआपपर्यावरणअनुकूलजीवनकीदिशामेंआगेबढ़नेकेलिएअपनासकतेहैं।

दैनिकजीवनमेंछोटे-छोटेपरिवर्तनसंतोषजनकप्रभावछोड़सकतेहैं,यदिलोगछोटापरिवर्तनकरनेकीठानलें।जहांभीसंभवहो,सार्वजनिकपरिवहनसेजाएं-कार्यपरस्थानीयट्रेन,बससेजाएंयासहकर्मियोंकेसाथवाहनसाझाकरें।पानीबचाएंऔरवर्षाकापानीएकत्रकरें,जलसंरक्षणतंत्रलगाएंऔरऊर्जा-सक्षमउपकरणोंकाउपयोगकरें।अपनीरसोईकेकूड़ेकीखादबनाएं,औरकूड़े-कचरेकीछंटाईकरें।पेपरटिशूकेबदलेकपड़ेकेनैपकिनोंकाउपयोगकरें,माहवारीकेकपऔरकपड़ेकेदोबाराप्रयोगकिएजानेवालेसैनिटरीपैडोंकाउपयोगकरें,टॉयलेटऔरघरकीसाफ-सफाईमेंरासायनिकपदार्थोंसेमुक्तसामानोंकाउपयोगकरें।जहांतकसंभवहो,पदार्थोंकापुनर्चक्रणकरउनकाफिरसेउपयोगकरेंऔरखरीददारीकेलिएअपनाथैलासाथलेजाएं।स्थानीयऔरमौसमीपदार्थखाएं।जहांभीलगासकेंपेड़लगाएं।अपनेस्थानीयनेचरक्लबसेजुड़ें,नागरिक-प्रेरितपर्यावरणीयकायक्रमोंमेंस्वेच्छासेभागलें,विशालखुलेमैदानोंकाआनंदलेंऔरसततवअनुकूलजीवनकीखूबसूरतीकोअपनाएं।

26मार्चकीशाम,जबहमअर्थआवरकाउत्सवमनाएंगे,तोविश्वमेंलाखोंपरिवारशामके8बजकर30मिनटपरबत्तियांबंदकरेंगे।क्याआपसहायताकरनेकेलिएहमसेजुड़ेंगेऔरइसपृथ्वीपर'अपनाभविष्यसंवारिए'कार्यक्रममेंसहायताकरेंगे?

By Ellis