संवादसूत्र,श्रीमुक्तसरसाहिब

दोदिनपहलेट्रैफिकपुलिसवसमाजसेवीसंस्थानेशहरमेंफ्लैगमार्चकरअतिक्रमणहटानेकाआह्वानकियाथालेकिनअतिक्रमणजैसेकीतैसेबरकरारहैऔरलोगोंकोउसीपरेशानीकासामनाकरनापड़रहाहै।अतिक्रमणकेकारणबाजारमेंयहहालातहैंकिकईबारतोपैदलचलनाभीमुश्किलहोजाताहै।शहरकीऐसीकोईसड़कनहींहैजहांपरअतिक्रमणनहींहै।लोगजगहजगहजाममेंफंसेदेखेजासकतेहैं।कईबारतोलोगोंकोपांचमिनटकेकामकेलिएआधाघंटाट्रैफिकमेंफंसनापड़ताहै।

शहरकेघासमंडीचौक,बावासंत¨सहरोड,मालगोदामरोड,मेनबाजार,गांधीचौकमेंसबसेअधिकअतिक्रमणहै।इनसड़कोंपरतोयहहालहैकिगलीदसफीटकीहैतोदोनोंओरमोटरसाइकिललगाकरपांचफीटजगहरोकलीजातीहै।उपरसेदुकानकेबाहरसामानरखलियाजाताहै।जिससेसड़कपरगुजरनेकेलिएजगहहीनहींबचती।बारबारट्रैफिककर्मियोंवनगरकौंसिलकीओरसेसामानउठानेपरभीइनकाकोईहलनहींहोरहा।

कईदुकानोंकेआगेबाजारमेंरेहड़ीखड़ीहोतीहै।इनरेहड़ीवालोंसेदुकानदार100रुपयेसेलेकर300रुपयेप्रतिदिनकेहिसाबसेपैसेलेताहै।जैसीजिसरेहड़ीवालेकीसेलहोतीहैउससेउसकेहिसाबसेहीपैसेलिएजातेहैं।जबकोईसामानउठानेआताहैतोउसकानिपटारादुकानदारकरताहै।वहजिम्मेदारीदुकानदारनेलेरखीहै।क्योंकिउन्हेंमहीनेकीमुफ्तमेंकमाईहोरहीहै।जिसकाखामियाजालोगभुगतरहेहैं।इनसेट

लोगोंकोकररहेजागरूक:छाबड़ा

फ्लैगमार्चनिकालनेवालीसंस्थामुक्तिसरवेलफेयरक्लबकेप्रधानजसप्रीतछाबड़ाकाकहनाथाकिवहतोमात्रलोगोंकोजागरूकहीकररहेहैं।वहसप्ताहमेंएकदिनमार्चकरतेहैं।यदिकोईनहींहटातातोवहक्याकरसकतेहैंवहतोजागरूकहीकरसकतेहैं।

ਪੰਜਾਬੀਵਿਚਖ਼ਬਰਾਂਪੜ੍ਹਨਲਈਇੱਥੇਕਲਿੱਕਕਰੋ!