बुधवारकोदिनके11बजेहैं।सुल्तानगंजकेअजगैबीनाथघाटपरउत्तरवाहिनीगंगाबिल्कुलशांतहै।ठीकउसीतरहसेजिसतरहकीसुल्तानगंजसेबैद्यनाथकेदरबारतकजानेवालाकांवरियापथसूनाहै।शिवकीप्रियगंगाकीअकुलाहटभलेहीउनकेअसंख्यभक्तोंकेकंधेपरसवारहोकरदेवघरजानेकीहै,लेकिनइसराहमेंइसवर्षकोरोनानेरोड़ाअटकादियाहै।तकरीबन200सालसेअधिकपुरानीअविरल,अद्भुत,अविस्मरणीयकांवरयात्रापरलगीपाबंदीभलेहीमानवजीवनकीसुरक्षाकेलिएमुकम्मलहोलेकिनइसपाबंदीकीवजहसेसुल्तानगंजसेदेवघरकेबीच105किलोमीटरकांवरियापथपरशून्यकीस्थितिपैदाहोगईहै।

शिवकाप्रियसावनमें105किलोमीटरकीकांवरयात्रामेंदेशहीनहींविदेशोंकेकईहिस्सोंसेशिवभक्तोंवकरसेवकोंकासैलाबयहांदिनऔररातकाफर्कमिटादेतेहैं।लेकिनइसवर्षसड़कोंपरसन्नाटाऔरशिवभक्तसेलेकरआमजनोंकेचेहरेपरमायूसीहै।शांतगंगाकोनिहारनेकेक्रममेंअचानकसेप्रशासनिकअधिकारियोंकीमौजूदगीकाएहसासहोताहै।देखाकिसुल्तानगंजथानाकेप्रभारीरामप्रीतकुमारदल-बलकेसाथगंगातटकेकिनारेबंदपड़ेदुकानोंकोमुआयनाकरनेपहुंचेहैं।यहांकुछेककर्मकांडकरातेलोगोंसेकहाकिभीड़नहींलगाएंयहां।बिहारसरकारकासख्तआदेशहैकिघाटपरएकभीकांवरियानहींआएं।बैद्यनाथधाममंदिरकापटइसवर्षकांवरियोंकेलिएबंदहै।इसेध्यानमेंरखकरबिहारसरकारनेभीलॉकडाउनकानिर्णयलियाहै।अजगैबीनाथकेमंदिरमेंभीश्रद्धालुओंकेप्रवेशपरपूरीतरहसेरोकहै।

मंदिरकेमहंतप्रेमानंदगिरिकहतेहैंकिलॉकडाउनकापालनसबकोकरनाहै।इसलिएसरकारकानिर्णयसर्वोपरिहै।अभीथानेदाररामप्रीतयहांसेनिकलेभीनहींथेकिसुल्तानगंजकेसीओशशिकांतकुमारघाटपरपहुंचगए।पूरीस्थितिकामुआयनाकरतेहुएसबकोफटाफटजगहखालीकरनेकोकहा।पूछनेपरकहाकिसीढ़ीघाटमेंएककोरोनापॉजिटिवमिलाहैइसलिएअब500मीटरकेदायरेमेंइसइलाकेकोकंटेंटमेंटजोनमेंघोषितकरदियागयाहै।फिरदेखतेहीदेखतेघाटकेप्रवेशमार्गकोसीलकरदियागया।सुल्तानगंजभागलपुरजिलेमेंपड़ताहै।यहांसेनिकलनेकेबादअसरगंजसेसंग्रामपुरतकमुंगेरजिलेकादायराहै।इसकेआगेबांकाऔरफिरसबसेअंतमेंझारखंडसीमापरदेवघर।

कांवरियापथपरनघुंघरुओंकीआवाज,नबोलबोलकाउद्घोष

दिनकेतकरीबन12बजेअसरगंजसेसंग्रामपुरमुख्यपथपरकोईखासचहल-पहलनहीं।मुख्यपथकेसमानांतरहीपैदलकांवरियापथपरबिल्कुलसन्नाटा।घुंघरुओंकीआवाजनबोलबमकाकोईउच्चारण।कारणएकभीश्रद्धालुमार्गपरनहींदिखे।संग्रामपुरसेआगेबढ़नेपरयहउम्मीदथीकिशायदश्रद्धालुओंसेदर्शनहोलेकिनहरपुर,रामपुर,बेलहर,कटोरियातकनतोमुख्यपथपरसवारीगाड़ियांऔरनकांवरियापथपरकिसीकादर्शन।नएटेंट,तंबूऔरशिविरकीबातकौनपूछे,बीतेवर्षलगाएगएटेंटवशिविरोंकीबांस-बल्लियांभीध्वस्तहोकरनीचेगिरीपड़ीहैं।धर्मशालाओंमेंसन्नाटाहै।कांवरियापथकाहाल-बेहालहै।अभीअगरइसपरकोईपैदलचलेतोतुरंतजख्मीहोजाए।दिनकेएकबजेलोहटनियामेंसाथीलाइनहोटलमेंचायकीचुस्कियोंकेबीचहोटलकेमालिककोछेड़ातोसुरेशयादवनेमायूसभावमेंकहाकिसबकुछतबाहकरदियाइसमहामारीने।नहींतोसावनमेंपूछिएमत,सड़कपरचलनामुश्किलहोजाताहै।अबरखियामेंस्व.फूलझारोदेवीकीस्मृतिमेंबनायागयासिवानधर्मशाला।अभीयहांराजमिस्त्रीकामकररहेहैं।धर्मशालाबनवानेवालेउमेशतिवारीकेनेतृत्वमेंशैलेंद्रमिश्र,पंचानंदमिश्र,राजूपांडेयसमेतकईलोगसिवानसेजुटेहैं।पूछनेपरशैलेंद्रकहतेहैंकिमेलासेज्यादासबकोजिदाबचनाज्यादाजरूरीहै।यहांसेपैदलकांवरियापथपरबढ़तेहीदिव्यांगकार्तिककुमारसेमुलाकातहोजातीहै।पूछनेपरकहाकिमेलानहींलगनेसेकाफीपरेशानीमेंहै।मेलालगताथातोएकछोटासेदुकानलगाकरअच्छीकमाईकरलेताथालेकिनइसबारतोसबकुछचौपटहोगयाहै।इनारावरणपहुंचते-पहुंचतेशामकेतीनबजचुकेहैं।

छपरहियाधर्मशालाबिल्कुलवीरानहै।सतलेटवामेंबिहारपयर्टनकेंद्रकेभवनमेंकोईनहींहै।इनारावरणबाजारमेंइक्का-दुक्कालाइनहोटलखुलाहै।भूल-भूलैया,सुईयाऔरजिलेबियाकोजिक्रभीजरूरीहैक्योंकिपैदलकांविरयोंकोइससड़कपरगुजरनाअविस्मरणीयहोताहैलेकिनइसबारतोइनपथोंपरबिल्कुलसन्नाटाहै।

दोहजारकरोड़काकारोबारचौपटहोनेकीटीस

तिलैयामेंकांवरियापथसेसटेसत्यानारायणजायसवालटूटे-फूटेहोटलमेंबैठेमिलतेहैं।पूछनेपरकहाकिसालभरसेसावनकाइंतजारकरतेहैंक्योकिइसमाहकीआमदनीसेशेषमहीनोंकीतंगीदूरहोजातीहै।कोरोनासबकोलेडूबा।खानेकोलालेपड़ेहैं।देखिएउसडिब्बामेंमकईकासत्तूलाएंहैंखानेकेलिए।दरअसलसत्यानारायणजायसवालहीनहींबल्किइस105किलोमीटरकेदायरेआनेवालेएक-एकव्यवसायीऔरग्रामीणोंकोसावनकाइंतजारहोताहै।श्रावणीमेलेकाअर्थशास्त्रयहकिअगरएककांवरियातीन-चारदिनोंकीपैदलयात्रामेंऔसतन600-800रुपयेभीखर्चकरताहैतोएकमाहमेंतकरीबनदोहजारकरोड़सेभीअधिककाकारोबारतयहै।बीतेवर्षसावनमें30लाखकांवरियादेवघरपहुंचेथे।इसलिहाजसे105किलोमीटरमेंफैलीवीरानगीकीएकबड़ीत्रासदीयहभीहै।

झारखंडसीमापरहैचाक-चौबंदव्यवस्था

गोधूलिबेलाआते-आतेदर्दमाराऔरपैदलपथदुम्मापहुंचनेपरपुलिसकीतैनातगीसेएहसासहोताहैकियहबिहारऔरझारखंडकीसीमाहै।यहांसेबैद्यनाथधामकीदूरीमात्र10किलोमीटरहै।यहांपहुंचतेहीकांवरियोंकीथकानमिटजातीहै।उनकीस्फूर्तिऔरचेहरेपरशीघ्रहीशिवदर्शनकाभावतैरनेलगताहै।लेकिनइसवर्षयहांवाहनोंकीसघनजांचकादृश्यकायमहै।अगरकोईभूला-भटकाशिवभक्तयहांतकआभीजाएतोउन्हेंआदरपूर्वकवापसलौटानेकीकार्रवाईहोरहीहै।दर्दमारामेंतैनातदंडाधिकारीलक्ष्मीनारायणराउतनेकहाकिआजएकभीकांवरियायहांतकनहींआएंहैं।दुम्मामेंभीयहीहालरहा।मतलबसुल्तानगंजटुदेवघरकीकांवरयात्रापरकोरोनानेइसवर्षअल्पविरामलगादियाहैऔरशायदऐसाहीनजाराअबपूरेसावनमाहतककायमभीरहेगा।यहांसेआगेखिजुरियातकपैदलकांवरियापथजोबीतेसालतकगुलजाररहताथाअबअंधेरेमेंलिपटाहै।देवघरशहरभीसावनसेइतरसामान्यदिनकीतरहहै।शहरमेंमाइकसेएलानकीआवाजकानमेंसुनाईदेतीहै-इसबारमनकेघरकोदेवघरबनाएं।घरसेबाहरनिकलनेकेबजाएघरमेंहीशिवकीआराधनाकरसावनमनाएं।

By Field