इसवर्षमानसूनकेलंबाखिंचनेकेचलतेबाढ़जनितसमस्याएंकमहोनेकानामनहींलेरहीहैं।पहलेमहाराष्ट्रऔरमध्यप्रदेशबाढ़सेहलकानथेतोअबपूर्वीउत्तरप्रदेश,बिहारऔरबंगालकेसाथकर्नाटकऔरकेरलभीबदहालहैं।

यहपहलीबारनहींजबदेशकेतमामहिस्सेबाढ़कीचपेटमेंआएहों,लेकिनकुछअर्सेसेकमसमयमेंज्यादाबारिशअधिकदेखनेकोमिलरहीहै।यहजलवायुपरिवर्तनकानतीजाहै।आनेवालेसमयमेंजलवायुपरिवर्तनकेऐसेदुष्प्रभावकहींअधिकदेखनेकोमिलसकतेहैं।अबजबयहमानाजारहाहैकिजलवायुपरिवर्तनकेदुष्प्रभावसेबचनाकठिनहैतोयहआवश्यकहीनहींअनिवार्यहैकिबारिशसेउपजनेवालीसमस्याओंकासमाधानकरनेकेलिएहरसंभवकदमउठाएजाएं।

ऐसेकदमोंकीसबसेअधिकजरूरतशहरोंमेंहै,क्योंकिबरसातीपानीकीनिकासीकेअभावमेंवेथोड़ीसीभीअधिकबारिशमेंउफनपड़तेहैं।अबतोयहभीदेखनेकोमिलरहाहैकिक्षेत्रविशेषमेंकमबारिशकेबावजूदवहबाढ़कीचपेटमेंआजाताहै।पटनाइसकाहीउदाहरणबनाहुआहै।पटनाकेसाथ-साथभागलपुरकीभीहालतखराबहैऔरअंदेशाइसबातकाहैकिआनेवालेदिनोंमेंबिहारकेकुछऔरशहरीइलाकेबाढ़कीचपेटमेंआसकतेहैं।ध्यानरहेकिकुछदिनोंपहलेमुंबईऔरपुणेबारिशसेबदहालथे।

यहसहीहैकिजबकहींजरूरतसेज्यादाबारिशहोगीतोसमस्याएंसिरउठाएंगीही,लेकिनभारतकीसमस्यायहहैकिहमारेशहरोंकाढांचाचरमरागयाहै।स्मार्टसिटीसरीखीयोजनाओंकेबादभीस्थितिमेंकोईबुनियादीबदलावआतानहींदिखरहाहैतोइसीलिएकिसुनियोजितविकासकीघोरअनदेखीकीजारहीहै।यहतबहैजबदेशकेसभीशहरआबादीकेबढ़तेदबावकासामनाकररहेहैं।

चूंकिशहरीढांचेकोदुरुस्तकरनेकाकामआधे-अधूरेमनऔरअधकचरीयोजनाओंसेकियाजारहाहैइसलिएबारिशकेदिनोंमेंशहरोंमेंढंगसेरहनामुश्किलहोरहाहै।खराबबातयहहैकिशहरोंकीदुर्दशासेपरिचितहोनेकेबादभीउन्हेंरहनेलायकबनानेकेमामलेमेंजरूरीराजनीतिकइच्छाशक्तिनहींदिखाईजारहीहै।

ऐसेमेंआमजनताकोयहसमझनाहीहोगाकिकेवलनेताओंऔरनौकरशाहोंकोकोसनेसेकामचलनेवालानहींहै।उसेनीति-नियंताओंकोजवाबदेहबनानेकेसाथयहभीसमझनाहोगाकिशहरीढांचेमेंव्यापकतब्दीलीलानेकीजरूरतहैऔरइसतब्दीलीकीकुछकीमतभीचुकानीहोगी।

By Dunn