गोरखपुरमेंबाढ़केतांडवकेबीचएकबेटीकेशिक्षाकेजुनूनकामामलासामनेआयाहै।यहांबहरामपुरगांवमें11वींमेंपढ़नेवालीछात्रासंध्यासाहनीअकेलेनावसेस्कूलआ-जारहीहै।गोरखपुरकीइसबिटियाकेहौसलेऔरजज्बेकोदेखकरहरकोईहैरानहै।

वहीं,संध्याकेशिक्षाकेइसजुनूनकोदेखकरकांग्रेसनेताराहुंलगांधीनेभीउसकीतारीफोंकेपुलबांधेंहैं।उधर,संध्याकीनावचलाकरस्कूलजातेफोटोऔरवीडियोसोशलमीडियापरजमकरवायरलहोरहीहै।

निषादपार्टीकेराष्ट्रीयअध्यक्षपहुंचेमिलने

वहीं,बहादुरबेटीसंध्यासेमिलनेसोमवारकोनिषादपार्टीकेराष्ट्रीयअध्यक्षडॉक्टरसंजयनिषादउसकेघरपहुंचे।डॉक्टरसंजयनिषादनेसंध्याकेहौसलेकीतारीफकीऔरउसकेपरिवारकोहरतरहसेमददकाभरोसादिलाया।डॉ.संजयनिषादनेकहाकिसंध्यासहानीउनकीबिरादरीकेलिएअबएकरोलमॉडलबनचुकीहै।संध्याजैसीदूसरीबेटियोंकेपढ़ाईकेलिएवहजल्दहीहरजिलेमेंनिषादोंकेलिएएकअलगसेविद्यालयखुलवाएंगे।संध्याकोहॉस्टलमेंभर्तीकरानेऔरबादमेंनौकरीदिलवानेकेसाथ-साथउसकेपरिवारकीहरजरूरतकोपूराकराएंगे।(

शिक्षकदिवसपरराहुलगांधीनेट्वीटकीफोटो

शिक्षकदिवसकेमौकेपरराहुलगांधीनेगोखपुरकीइसबेटीसंध्याकीनावचलातेफोटोट्वीटकरलिखाहै-'येबच्चीमुश्किलपरिस्थिति,ठपप्रशासनवअनिश्चितभविष्यहोनेपरभीहिम्मतनहींहारी...संध्याकासाहसबहुतकुछसिखताहै'।दरअसल,बहरामपुरइलाकाइनदिनोंपूरीतरहबाढ़मेंडूबाहुआहै।हालयेहैकिकईपरिवारयहांसेसुरक्षितजगहपरपलायनभीकरचुकेहैं।

इसीबहरामपुरकेरहनेवालेदिलीपसहानीकारपेंटरकाकामकरतेहैं।इनके4बच्चेहैं,जिनमेंसंध्यासहानीसबसेबड़ीबेटीहै।संध्यासाइंससाइडसेजिलेराजकीयएडीकन्याविद्यालयमें11वींमेंपढ़तीहैं।संध्याकास्कूलपिछले1सालसेकोरोनाकीवजहसेबंदथाऔरपिछलेमहीनेजबस्कूलकॉलेजखुलेतोबाढ़कीविभीषिकानेइनकेगांवकोहरतरफसेघेरलिया।

रेलवेमेंनौकरीकरनाचाहतीहैंसंध्या

गांवकीदूसरेबच्चोंनेस्कूलजानाबंदकरदिया,लेकिनसंध्याकेमनमेंपढ़ाईकेप्रतिजुनूनथा।इसकीवजहसेसंध्यानेघरमेंबैठनेकेबजायनावसेहीस्कूलआना-जानाशुरूकरदिया।संध्यारेलवेमेंनौकरीकरनाचाहतीहैं।संध्यानेबतायाकिउसकाघर15दिनसेपानीमेंडूबाहुआहै।वहलोगछतपरजिदंगीगुजाररहेहैं।स्मार्टफोननहींहोनेकीवजहसेघरसेपढ़पानाउसकेबसकीबातनहींथी।स्कूलकीदूसरीसहेलियोंसेपढ़ाईकेबारेमेंहररोजसुनकरसंध्यानेफैसलालियाकिवहस्कूलजाएगी।फिरउसनेअकेलेनावसेस्कूलआना-जानाशुरूकरदिया।

परिवारसमेतहवाईजहाजमेंघुमनाचाहतीहैसंध्या

संध्याकेमुताबिक,वहअपनीशिक्षाकेजरिएअपनेपरिवारकोमजबूतकरनाचाहतीहै।उसकेसमाजमेंलोगलड़कियोंकीशिक्षाकोजरूरीनहींमानते,लेकिनतंगहालीमेंजीवनकाटनेकेबावजूदउसकेमाता-पिताउसेआगेबढ़ानाचाहतेहैं।उनकेहौसलेकोदेखकरहीउसनेइसकठिनवक्तमेंभीअपनीपढ़ाईजारीरखीहै।संध्याकासपनाहैकिअच्छीपढ़ाईकरवहरेलवेमेंनौकरीकरसके,जिससेपरिवारकीआर्थिकमुश्किलेंखत्महोसके।इसकेसाथहीसंध्याहवाईजहाजमेंभीघूमनाचाहतीहै।

बेटीकाजज्बादेखकरपिताभीखुश

वहीं,संध्याकेपितादिलीपकाकहनाहैकिबेटीरेलवेमेंनौकरीकरनाचाहतीहै।वहदिन-रातपढ़ाईभीकरतीहै।इधर,बाढ़कीवजहसेवहलोगबहुतपरेशानहोगएहैं।घरकासारासामानअस्त-व्यस्तपड़ाहुआहैदिनऔररातवक्तगुजाररहेहैं,लेकिनबेटीकाजज्बादेखकरउनकोअपनासाराकष्टअबकमलगनेलगाहै।

By Ellis