।कोरोनावलाकडाउननेवर्तमानमेंहरकिसीकेजीनेकीशैलीकोबदलदियाहै।सबसेअधिकबदलावपढ़नेवालेबच्चोंमेंदेखाजारहाहै।लॉकडाउनकीशुरूआतीदौरमेंलूडो,शतरंज,कैरमबोर्डकेअलावामोबाइलपरअन्यगेमवटेलीविजनदेखमनबहलानेवालेबच्चेपूरादिनपढ़ाईमेंव्यतीतकररहेहैं।बहरहालपढ़ाईकोलेसरकारकीतरफसेउठाएकदमोंकाबच्चेभरपूरफायदाउठारहेहैं।वेघरबैठेसिर्फऑनलाइनपढ़ाईहीनहीकररहेहैंबल्किअपनीउपस्थितिभीऑनलाइनदर्जकरारहेहैं।चाहेवहसीबीएसईसेमान्यताप्राप्तनिजीस्कूलहोयाफिरअन्यशिक्षाबोर्डसेनिबंधितवसरकारीविद्यालय।ऑनलाइनउपस्थितिदर्जकरानेकेपीछेमुख्यवजहयहहैकिसरकारकोपताचलसकेकिकितनेबच्चेविभिन्नमाध्यमोंसेउपलब्धकराएजारहेशिक्षणसामग्रीकालाभउठारहेहैं।

पढ़नेवालेसभीछात्रोंकेपासभलेहीलैपटॉपवटैबनहोफिरभीसुबहमेंनीदखुलनेसेलेकररातमेंसोनेतकमोबाइलफोनजरुरदिखरहाहै।उनकीनजरेंवाहट्सपकेअलावादीक्षाआरोग्यसेतुसमेतअन्यएपपरटिकजारहीहै।वेदेखनेमेंमशगूलहोजारहेहैंकिकिसीटीचरनेकोईसवालतोनहीभेजाहै।मौकामिलतेहीबच्चेशिक्षकोंद्वाराभेजेगएवीडियोक्लिपयाराइटपसेपढाईकरनेमेजुटजातेरहेहै।जिलेकेसरकारीस्कूलोंमेंदूरदर्शन,उन्नयनबिहारकेतहतमेराविद्यालयमेरामोबाइल,दीक्षाएपकेमाध्यमसेशिक्षकबच्चोंकोशिक्षणसामग्रीउपलब्धकरारहेहैं।दूरदर्शनपरउपलब्धकराईजारहीशिक्षणसामग्रीसेफिलहालजिलेके130उच्चविद्यालयकेनौवींवदसवींकक्षाके25हजारसेअधिकछात्रछात्रालाभलेरहेहैं।

वहीकेंद्रीयविद्यालयसहितअन्यनिजीस्कूलभीऑनलाइनपढ़ाईकेसाथबच्चोकाउपस्थितिभीदर्जकराईजारहीहै।मोबाइलफोनपरबनेवाहट्सपग्रुपमेभेजेगएलिककेमाध्यमसेबच्चेहररोजअपनीहाजिरीबनारहेहै।केविकीनित्या,अबिताअंजाना,सलोनी,सृष्टि,श्वेता,शिवानी,आरती,पूजा,श्रद्धासत्या,शोभा,प्रज्ञा,डीएवीकीमृग्याशेखरकेअलावासुधांशुसमेतअन्यछात्रोंनेकहतीहैंकिऑनलाइनपढ़ाईसेसिलेबसकेपिछड़नेकीसंभावनाकमहै।सावधानीवसतर्कताहीएकमात्रउपायहै,जिसकेबदौलतहमकोरोनामहामारीपरकाबूपासकतेहैं।सरकारहरनिर्देशवनिर्णयकापालनकरनाहमसबकीजवाबदेहीहै।