नयीदिल्ली,15सितंबर:भाषा:बच्चोंमेंकैंसरकाबढ़ताचलनपूरीदुनियाकेलिएखतरेकीघंटीहै।हरवर्षतकरीबनतीनलाखबच्चेइसजानलेवाबीमारीकीचपेटमेंआतेहैं,जिनमेंसे78हजारसेज्यादाअकेलेभारतमेंहोतेहैं।इससेभीज्यादादुखदायीतथ्ययहहैकिविकसितदेशोंमेंजहांलगभग80प्रतिशतबच्चेठीकहोजातेहैंवहींभारतमेंडॉक्टरकैंसरपीड़ितकेवल30प्रतिशतबच्चोंकोहीबचापातेहैं।विश्वस्वास्थ्यसंगठनने2030तक60प्रतिशतकैंसरपीड़ितबच्चोंकोजिंदगीकीजंगमेंविजयीबनानेकालक्ष्यनिर्धारितकियाहै।एक्यूटलिम्फोब्लास्टिकल्यूकेमिया,ब्रेनट्यूमर,होज्किन्ज़लिम्फोमा,साकोर्माऔरएंब्रायोनलट्यूमरसिर्फमुश्किलशब्दहीनहींबल्किबच्चोंकोमुश्किलमेंडालदेनेवालेजानलेवाकैंसरकेप्रकारहैं,जोबड़ीखामोशीसेहंसतेखेलतेबच्चेकोमौतकेमुंहतकपहुंचादेतेहैं।हालांकिडाक्टरोंकीयहबातराहतदेसकतीहैकिजरासाध्यानदेनेसेऔरसमयरहतेकैंसरकीआहटपहचानलेनेसेज्यादातरमामलोंमेंइसेठीककियाजासकताहै।इसक्षेत्रमेंकार्यरतगैरसरकारीसंगठन‘कैनकिड’कीसंस्थापकपूनमबगईकाकहनाहैकिगांवदेहातमेंकैंसरपीड़ितबच्चोंकेअस्पतालऔरआधुनिकचिकित्सासेवाओंतकपहुंचनेकीदरकेवल15प्रतिशतहीहै।खुदकैंसरपरविजयहासिलकरनेवालीपूनमइसबीमारीकीभयावहताऔरइसकेदर्दकोभलीभांतिसमझतीहैं।यहीवजहहैकिउन्होंने2004मेंअपनीसरकारीनौकरीछोड़करइससंगठनकीस्थापनाकीऔरआजदेशके69अस्पतालोंकेसाथकामकरतेहुएवह42हजारसेज्यादाबच्चोंकोउपयुक्तचिकित्सासहायताऔरअन्यतमामतरहकीसुविधाएंप्रदानकरनेमेंसफलरहीहैं।पूनमनेबतायाकिउनकासंगठनदेशभरमेंकुल22राज्योंके42शहरोंमें69कैंसरसेंटरोंकेसाथसाझेदारीमेंकामकररहाहै।10राज्योंमेंपरियोजनाएंस्थापितकीगईहै।पंजाबऔरमहाराष्ट्रसरकारकेसाथनॉलेजपार्टनरकेरूपमेंसहमतिपत्रपरहस्ताक्षरकिएगएहैं।उन्होंनेबतायाकिइसवर्ष‘कैंसरसर्वाइवर्स’कीतरफसेबच्चोंकेकैंसरकेबारेमेंजनजागरूकताफैलानेकेइरादेसे‘हककीबात’अभियान’चलाया,जिसमेंसभीहितधारकों,अस्पताल,नर्सों,स्कूल,कॉलेजोंऔरसरकारकोशामिलकियागयाहै।बच्चोंमेंहोनेवालेकैंसरकेबारेमेंनोएडाकेजेपीअस्पतालमेंसीनियरकंसल्टेंट,सर्जिकलओन्कोलॉजिस्टडॉक्टरनितिनलीखाकाकहनाहैकिवयस्कोंऔरबच्चोंमेंहोनेवालेकैंसरमेंकईअंतरहैऔरभारतमेंकैंसरकेकुलमरीजोंमेंबच्चोंकीसंख्या3से5प्रतिशतहै।उनकेअनुसारसमयपरबीमारीकापताचलजाएतोकाफीहदतककैंसरकोमातदीजासकतीहै।उन्होंनेबतायाकिएक्यूटलिम्फोब्लास्टिकल्यूकेमिया,ब्रेनट्यूमर,होज्किन्ज़लिम्फोमाआदिबच्चोंमेंहोनेवालेकैंसरहैं।अभिभावकोंकोकैंसरसेजुड़ेप्रारंभिकलक्षणोंकीजानकारीरखनीचाहिएऔरबच्चेकाशारीरिक,मानसिकविकाससामान्यरूपसेनहोरहाहो,कमवजनहोनेलगे,अचानकरक्तस्रावहोअथवाशरीरकेकिसीहिस्सेमेंगांठउभरनेलगेतोसचेतहोजाएँ,साथहीबीमारियोंकीफैमिलीहिस्ट्रीपरनज़ररखें,क्योंकिल्यूकेमियाऔरब्रेनट्यूमरआदिजैसेकैंसरअनुवांशिककारणोंसेभीहोसकतेहैं।इससंबंधमेंएक्शनकैंसरअस्पतालमेंसीनियरकंसल्टेंट,पीडियाट्रिकहेमेटोऑन्कोलॉजीडॉक्टरऊष्मासिंहकाकहनाहैकिबच्चोंकेकैंसरकेसंबंधमेंभारतसहितएशियाकेतमामदेशदयनीयस्थितिमेंहैं।इनदेशोंमेंउचितस्वास्थ्यसुविधाओंकीकमीतोहैही,गरीबीऔरजागरुकताकीकमीसेहालातऔरबिगड़गएहैं।उन्होंनेबतायाकिजानकारीकेअभावमेंबच्चोंकोबीमारीकेतीसरेयाचौथेचरणमेंइलाजकेलिएलायाजाताहै,जिसमेंमरीज़कीजानबचापानालगभगनामुमकिनहोजाताहै।ऐसेमेंइसबीमारीकेजल्दीपताचलनेपरबड़ेजोखिमसेबचाजासकताहै।

By Edwards