बलरामपुर:कस्तूरबागांधीआवासीयबालिकाविद्यालयबदाहलीकाशिकारहै।शौचालयकेटैंकसेउठनेवालीदुर्गंधसेसांसलेनादुश्वारहै।परिसरमेंजलभराववकीचड़केबीचछात्राएंवअध्यापकआवागमनकरनेकोविवशहैं।जर्जरहोचुकेभवनकीछतोंसेबरसातकापानीटपकताहै।बावजूदइसकेअधिकारीधरातलपरउतरनामुनासिबनहींसमझरहेहैं।जिससेसमस्याकानिस्तारणनहींहोपारहाहै।

वर्ष2009मेंकस्तूरबागांधीआवासीयबालिकाविद्यालयब्लॉकसंसाधनकेंद्रपचपेड़वामेंसंचालितकियागया।एककन्याजूनियरवपूर्वमाध्यमिकविद्यालयकेछहकमरोंमें100छात्राओंकोरातविश्रामसेलेकरपढ़ाईकराईजातीहै।जहांछात्राओंकाखानाबनताहै,वहभवनजर्जरहै।जोकभीभीढहसकताहै।उसीभवनमेंशौचालयहै।शौचालयकाटैंकटूटाहै।जिससेदुर्गंधउठतीहै।पांचवर्षपूर्वटूटीचहारदीवारीकानिर्माणनहींकरायाजासका।रातमेंबेसहारापशुघुसआतेहैं।नगरकागंदापानीपरिसरमेंआताहै।जिससेगंदगीकीभरमारहै।विद्यालयमें100छात्राएंजोकक्षाछहसेआठतकशिक्षाग्रहणकरतीहैं।उनकेसोनेकेलिएपर्यापतचौकियांतकनहींहै।छात्राओंकाकहनाहैकिदिनरातउठनेवालीदुर्गंधसेसांसलेनादुश्वारहोगयाहै।वार्डेनरीतापांडेयनेबतायाकिसमस्याओंकेनिस्तारणकेलिएडीएमवबीएसएकोअवगतकरायाजाचुकाहै।बावजूदइसकेसमस्याकानिस्तारणनहींहोसकाहै।अपरजिलाधिकारीअरुणकुमारशुक्लकाकहनाहैकिबीएसएसेरिपोर्टमांगीगईहै।शीघ्रसमस्याकानिस्तारणकरवायाजाएगा।