संवादसहयोगी,पलवल

एकसमयथा,जबपुत्रकेपैदाहोनेमेंअंतरमानाजाताथा।समयकेबदलावतथासामाजिकचेतनाकेकारणपुत्रएवंपुत्रियांसमानसमझेजानेलगेहैं।अबलड़कियोंकेपैदाहोनेपरकुआंपूजनतथाउत्सवमनानेकीबातेंभीहोनेलगीहैं।इसीश्रृंखलामेंएकपरिवारनेघरमेंपुत्रीपैदाहोनेपरचारदिनकाकार्यक्रमकरनेकानिर्णयलियाहै।

कार्यक्रममेंपांचसेआठदिसंबरतकप्रतिदिनतीनघंटेसामवेदपारायणयज्ञवसत्संगकाकार्यक्रमआयोजितकियाजाएगा।कार्यक्रमकेअंतिमदिनसहभोजकाभीआयोजनकियाजाएगा।

न्यूएक्सटेंशनकालोनीनिवासीसंतोषकुमारीवहर्षदेवआर्यकेयहांपिछलेदिनोंपोतीपैदाहुई।उनकीखुशीकाठिकानानहीरहा।अबउन्होंनेइसखुशीमेंयहआयोजनकरनेकीघोषणाकीहै।यज्ञकेब्रह्मायुवाधर्माचार्यपंडितसुरेशशास्त्रीहोंगेजबकिवेदपाठकन्यागुरुकुलहसनपुरकीब्रह्मचारिणीहोंगी।मुख्ययजमानकीभूमिकाकन्याकीमांदीपिकागोयलतथापितायशपालगोयलनिभाएंगे।

कार्यक्रमकेलिएबाकायदानिमंत्रणपत्रछपवाएगएहैं।इसकार्यक्रमकीचर्चाशहरमेंजोरशोरसेहै।आयोजकहर्षदेवआर्यशहरआर्यसमाजकेमहासचिवभीहैं।उनकाकहनाहैकिवेदमेंयज्ञकोसर्वश्रेष्ठकर्मबतायागयाहैतथापोतीहोनेकीखुशीमेंवेयज्ञकाआयोजनकररहेहैं।वैसेउनकेघरपरप्रतिदिनयज्ञहोताहै।

हममहर्षिदयानंदकीशिक्षाओंकीपरचलनेवालेलोगहैं।हमारेयहांबेटा-बेटीमेंकोईअंतरनहीहै।जैसीखुशियांबेटाकेपैदाहोनेपरहोनीचाहिए,ऐसीहीबेटीपैदाहोनेपरभीहोनीचाहिए।तभीसमाजमेंलड़का-लड़कीकेबीचकाअंतरसमाप्तहोगा।

-हर्षदेवआर्य,न्यूएक्सटेंशनकालोनीपलवल।

By Farmer