नईदिल्ली,आइएएनएस।स्मार्टफोननिर्माताकंपनियांलॉकडाउनऔरवैश्विकमंदीकापूराप्रभावसमझनहींपारहीहैंजिससेउन्हेंकुछपरेशानियोंकासामनाकरनापड़सकताहै।यूजर्सकिसीनईडिवाइसपरपैसाखर्चकरनेसेबेहतरघरकासामानयादैनिकतौरपरइस्तेमालहोनेवालीचीजोंकोखरीदनेयास्टॉककरनेपरध्यानकेंद्रितकररहेहैं।स्मार्टफोनबिक्रीकेआंकड़ोंकीबातकरेंतोभारतीयमार्केटमेंस्मार्टफोनकाप्रोडक्शनपहलेसे40फीसदकमहोगयाहै।ऐसाइसलिएक्योंकिलॉकडाउनकेचलतेऑनलाइनऔरऑफलाइनबिक्रीबंदहैंऔरकंपनियोंकेकारखानेभीबंदहैं।

Counterpointरिसर्चकेडायरेक्टरपीटररिचर्डसननेकहा,"हमारानिष्कर्षहैकिहमएकशार्पकॉन्ट्रेक्शनयानीतेजसंकुचनदेखनेकीउम्मीदकरसकतेहैं।ऐसाइसलिएक्योंकियूजर्सकिसीभीअनिश्चितताकेदौरानसोचसमझकरखरीददारीकरतेहैं।"हालांकि,उन्होंनेयहभीकहाकियहएक्सटेंशन6महीनेसेज्यादाकानहींहै।वहीं,भारतीयमार्केटमेंलॉन्चहोनेवालीनईडिवाइसेजपरभीप्रभावदिखाईदेरहाहै।क्योंकिइनडिवाइसेजमेंलगनेवालेकंपोनेंट्सचीनसेआतेहैंऔरवहांकेकारखानेकोधीरे-धीरेदोबाराशुरूकियाजारहाहै। सप्लाईचेनपरपड़ारहानेगेटिवप्रभाववर्षदूसरीतिमाहीकेआखिरीतकरहनेकीउम्मीदहै।

रिचर्डसननेआगेकहाकिअगरलंबेसमयकेहिसाबसेदेखाजाएतोहमआगेउम्मीदकरतेहैंकिऔसतबाजारविकासदरमेंबहुतज्यादाभिन्नतानहींहोगी।लेकिनअगरहालहीकेपरिपेक्ष्यकेहिसाबसेदेखाजाएतोग्रोथरेटमेंकुछमंदीदेखीजासकतीहै।देखाजाएतोपिछलेकुछवर्षोंमेंभारतीयनिर्माणमेंतेजीदेखनेकोमिलीहै।लेकिनअबभीभारतकईकंपोनेंट्सकोलेकरचीनपरनिर्भरहै।

Counterpointरिसर्चकेअसोसिएटडायरेक्टरतरुणपाठकनेकहा,“इससमयओरिजनलइक्यूपमेंट्समैन्यूफैक्चर्रर्सकेलिएनएस्मार्टफोन्सलॉन्चनहींकररहेहैं।वहीं,दूसरीतरफवोरिटेलर्सकोभीमददकररहेहैं।”साथहीकहाकिपार्टनर्सकीमददकरनेकेलिएसरकारऔरOEM’sकाप्रयासबेहदजरूरीहै।

By Elliott