जिसतरहगणेशजीनवाचार(innovation)केलिएजानेजातेहैं,वैसेहीरक्षाबंधनपरभाइयोंकीकलाइयोंपरबांधीजानेवालीराखियोंपरभीलगातारप्रयोगमेंहोतेरहेहैं।इसबार22अगस्तकोरक्षाबंधनआरहाहै।मार्केटरंग-बिरंगऔरडिजाइनरराखियोंसेसजगयाहै।लेकिनअबमामलागणेशप्रतिमाओंकीतर्जपरराखियोंमेंभीईकोफ्रेंडलीमटैरियलकेइस्तेमालकाहै।इसीदिशामेंगुजरातकेडांगजिलेकीआदिवासीमहिलाएंपिछलेकईसालोंसेलगातारप्रयोगकररहीहैं।इसबारभीबांससेबनींउनकीखूबसूरतराखियांडिमांडमेंहैं।येराखियांजितनीप्यारीहैं,उतनीहीईकोफ्रेंडली।यानीचीनकेमालकीतरहपर्यावरणको'नुकसान'नहींपहुंचातीं।

डांगजिलेकीआदिवासीमहिलाएंहमेशासेकुछकुछनएप्रयोगकरतीरहतीहैं।इसबारउन्होंनेबांससेआकर्षकराखियांबनाईहैं।पिछलेसालोंकीतुलनामेंयेइसबारयेराखियांऔरअधिकखूबसूरतऔरमजबूतहैं।यानीअगरआपचाहतेहैंकिपर्यावरणकीखूबसूरतीबनीरहे,तोइनईकोफ्रेंडलीराखियोंकोप्रमोटकरसकतेहैं।इन्हेंआपशानसेपहनकरलोगोंकोदिखासकतेहैं।

आदिवासीमहिलाओंकोबांससेराखियांबनानेकीट्रेनिंगदेनेवालेअंतिकमलिकनेन्यूजएजेंसीANIकोबतायाकिवेपिछलेएकसालसे'एसबीआईयूथफॉरइंडियास्कॉलरशिप'केसाथकामकररहेहैं।इसबारवेडांगजिलेमेंएकट्रेनरकेतौरपरआएहैं।महिलाओंकोइसट्रेनिंगकाउद्देश्यईकोफ्रेंडलीराखियोंकेजरियेआत्मनिर्भरबनानाभीहै।

ट्रेनरअंतिकमलिककहतेहैंकिबांससेबनींराखियांलोगोंकोकाफीपसंदआरहीहैं।इसबारभीइनकीपूरेदेशसेडिमांडआरहीहै।वेइनकीसप्लाईकरनेमेंलगेहैं।उन्होंनेबतायाकियेराखियांकोतवालियासमुदायकीपारंपरिकशैलीपरतैयारकीगईहैं।आदिवासीकलालोगोंकोहमेशासेआकर्षितकरतीआईहै।

ट्रेनरअंतिकमलिकबतातेहैंकिइनराखियांकीबाजिबकीमतरखीगईहै।यानीइन्हेंहरआर्थिकवर्गकेलोगखरीदसकतेहैं।इनकीकीमत50रुपयेसेलेकर200रुपयेतकरखीगईहै।मलिककहतेहैंकिउनकामकसदईकोफ्रेंडलीतरीकेसेत्योहारोंकोमनानेकाहै।

बतादेंकिडांगजिलागुजरातकेपश्चिमीघाटकीउत्तरीदिशामेंहै।यहएकपर्वतीयसंकराक्षेत्रहै।यहांरागीऔरधानउगायाजाताहै।यहांबांसबड़ीसंख्यामेंउगताहै।इसबांसकारोजगारमेंकैसेउपयोगकियाजाए,खासकरमहिलाओंकोआत्मनिर्भरबनाने...येराखियांइसीकासशक्तउदाहरणहैं।