जागरणसंवाददाता,यमुनानगर:

नालियोंसेखेतोंतकपानीपहुंचानेकातरीकाबदलगया।अंडरग्राउंडपाइपलाइनसेसिचाईकीओररुझानबढ़रहाहै।कृषिएवंकिसानकल्याणविभागकेअधिकारियोंकेमुताबिक80फीसदकिसानअबफसलोंमेंसिचाईकेलिएपाइपलाइनदबारहेहैं।ननालियांसाफकरनेकाझंझटहैऔरपानीकोजहांतकचाहेवहांपहुंचासकतेहैं।यहभीचितानहींकिनालीटूटकरपड़ोसीकाखेतभरदेगी।सबसेबड़ीबातयहहैकिजलसंरक्षणहोरहाहै।

यमुनाकिसानक्लबकेअध्यक्षएसपीसिंहबतातेहैंकिइसकेकईफायदेहैं।पहलापानीकीबचतहोतीहै।पानीइधर-उधरबेकारनहींबहताबल्किसीधेउसीखेतमेंजाताहैजहांजरूरतहै।दूसरा,नालियोंकीदेखरेखवसफाईपरआनेवालाखर्चनहींकरनापड़ताहै।नालियोंकीसफाईकेलिएमजदूरभीसमयपरनहींमिलते।पहलेफसलोंकीसिचाईनालियोंकेमाध्यमसेकरतेथे,लेकिनझंझटकाफीथा।कभीमजदूरनहींमिलतेथेतोकभीनालीटूटकरपानीदूसरेखेतोंमेंजमाहोजाताथाजिससेपानीकीबहुतअधिकबर्बादीहोतीथी।लेकिनअबऐसानहींहै।अधिकांशकिसानअंडरग्राउंडपाइपलाइनदबवारहेहैं।

गिरतेजलस्तरकीस्थितिमेंजरूरी:

खासतौरपरधानउत्पादितक्षेत्रोंमेंजलस्तरकरीबएकफीटप्रतिवर्षनीचेजारहाहै।ऐसेमेंपानीकेअनावश्यकदोहनकोरोकनावसमयसेकदमतालकरनानिहायतजरूरीहोगयाहै।सिचाईकीपरंपरागतविधिसेकिनाराकरआधुनिकविधिकोअपनालिया।खेतोंमेंभूमिगतपाइपलाइनबिछाकरपानीकीबचतकररहेहैं।वहस्वयंतोइसविधिकोआजमाहीरहेहैं,साथहीदूसरोंकोभीप्रेरितकररहेहैं।किसानड्रिपइरिगेशनसिस्टमभीअपनारहेहैं।क्योंकिपरंपरागतसिचाईविधिसेपानीबहुतअधिकबर्बादहोताहै।जहांपौधानहींहोतावहांभीपानीजाताहै।इसकेअतिरिक्तकहींपानीअधिकतोकहींकमहोनेकेकारणफसलखराबहोजातीहै।इसलिएजलसंरक्षणकेलिएबागवखेतोंमेंभूमिगतपाइपलाइनबिछादीजातीहै।बीच-बीचमेंआउटलेटखोलदेतेहैंऔरइन्हेंटपकासिचाईसिस्टमसेजोड़दियाजाताहै।डीडीएजसविद्रसैनीकाकहनाहैकिजलसंरक्षणकेलिएकिसानजागरूकहोरहेहैं।भविष्यकेइसकेअच्छेपरिणाममेंआएंगे।

By Duncan