संवादसूत्र,महेबा:बीहड़क्षेत्रकेपिथऊपुरगांवकेएकलालनेगांवकानामरोशनकियाहै।पिताकीमौतकेबादमांनेबेटेकीपढ़ाईकाजिम्माउठायाऔरआजउनकालालसैनिकस्कूलमेंचयनितहोगया।स्कूलकीप्रधानाचार्यनेजैसेहीयहखबरघरपहुंचाईतोआंखसेआंसूबहातेहुएमांपहुंचगई।बेटेकेसाथहीसभीकामुंहमीठाकराया।हर्षितकीअभिलाषालेफ्टिनेंटबनपिताकासपनापूराकरनेकीहै।

बीहड़क्षेत्रकेग्रामोंमेंप्रतिभाओंकीकमीनहींहैलेकिनइनकोनिखारनेकेलिएसंसाधनोंकाअभावजरूरहै।इसीगांवकेरहनेवालेमोहन¨सहअपनेबेटेहर्षितकोसेनामेंभर्तीकरानेकासपनापालेथे।उन्होंनेपुत्रहर्षितकादाखिलानियामतपुरमेंसंचालितअंग्रेजीमाध्यमस्कूलठाकुरफूल¨सहसर्वेंद्र¨सहमेंकरायाथा।एकवर्षपहलेउनकीबीमारीकेकारणमौतहोगईतोहर्षितकीपढ़ाईकाभारउसकीमांसरोजनीदेवीपरआगया।उन्होंनेहिम्मतनहींहारीऔरअपनेपतिकासपनापूराकरनेकेलिएघरेलूखर्चेकमकरकेपुत्रकोपढ़ानेमेंपूराध्यानदिया।सरोजनीदेवीनेबतायाकि13जनवरीकोस्कूलकीप्रधानाचार्यअपर्णाचौहानपरीक्षादिलानेलेगईथींतथाशुक्रवारकोजबप्रधानाचार्यनेबतायाकिउनकापुत्रसैनिकस्कूलकीपरीक्षामेंपासहोगयाहैतोउसकीआंखोंसेखुशीकेआंसूझलकआए।मांमिष्ठानवितरितकरनेस्कूलपहुंचगईजहांउसनेहर्षितकामुंहमीठाकरानेकेसाथहीस्कूलकेबच्चोंकोभीमिठाईखिलाई।

By Fisher