फुसरो(बेरमो):डाक्टरोंकेअभावमेंफुसरोकाअनुमंडलीयअस्पतालबीमारहोगयाहै।इसअस्पतालपरबेरमोप्रखंडसहितनिकटवर्तीनावाडीहवचंद्रपुराप्रखंडकेअलावापेटरवारप्रखंडकेआधेभागकीलगभगपांचलाखआबादीआश्रितहै।कुल11चिकित्सकोंकेपदस्थापनावालेइसअस्पतालमेंफिलहालमात्रचारमहिलाचिकित्सकहीतैनातहैं।उनमेंएकडा.एफहोरोअस्थायीप्रतिनियुक्तिपरहैं।वहगोमियासेसप्ताहमेंमात्रएकदिनबुधवारकोआकरयहांसेवादेतीहैं।

स्थायीरूपसेप्रतिनियुक्ततीनचिकित्सकोंमेंडा.नवीनाबारला,डा.शिल्पीआनंदएवंडा.अनिताचौधरीशामिलहैं।इसअस्पतालकेउपाधीक्षकडा.गणेशप्रसादगुप्तागंभीरबीमारीकीचपेटमेंआजानेकेकारणउपचारकरानेकोबीतेदोमाहसेलंबीछुट्टीपरहैं।इसलिएप्रभारीउपाधीक्षककापदभारडा.नवीनाबारलासंभालरहीहैं।इसप्रकारपांचलाखआबादीकास्वास्थ्यमहजचारमहिलाचिकित्सकोंपरहीनिर्भरहै।चिकित्सकोंकीनौ-नौघंटेकीड्यूटीरोस्टर:

अनुमंडलीयअस्पतालफुसरोमेंचिकित्सकोंकीकमीकेकारणवर्तमानमेंमौजूदचारचिकित्सकोंमेंएक-एककोप्रतिदिनसुबहनौबजेसेशामछहबजेतकऔरशामछहबजेसेसुबहनौबजेतककीनौ-नौघंटेकीड्यूटीरोस्टरतयगईहै।इसकारणयहांपदस्थापितचिकित्सककाफीपरेशानरहतीहैं।वहीं,मरीजोंकोभीपरेशानीझेलनीपड़रहीहै।अस्पतालकेआवासमेंनहींरहतेचिकित्सक:

युवाव्यवसायीसंघफुसरोकेपूर्वसचिवकृष्णकुमारचांडककाकहनाहैकियहफुसरोवआसपासकेइलाकेकाइकलौताबड़ासरकारीअस्पतालहै।इसलिएयहांस्थानीयसहितदूरदराजकेमरीजभीउपचारकरानेआतेहैं।अस्पतालकीव्यवस्थादेखकरलोगपरेशानहोजातेहैं।यहांभर्तीमरीजोंकोखानानहींमिलताहै।अस्पतालकेभोजनालयकक्षमेंदवाखानासंचालितकियाजारहाहै।झारखंडसरकारकीओरसेकरोड़ोंरुपयेकीलागतसेइसअस्पतालपरिसरमेंहीचिकित्सकोंकेनिवासकेलिएआवासनिर्माणकराएगएहैं।इसकेबावजूदप्रभारीउपाधीक्षकसहितअन्यचिकित्सकयहांनिवासनहींकरदूरदराजसेआना-जानाकरतेहैं।वर्जनअनुमंडलीयअस्पतालफुसरोमेंभर्तीमरीजोंकेभोजनकेलिएकोईफंडनहींहै।हालांकिसिजेरियनकेलिएभर्तीमरीजोंकोभोजनउपलब्धकरायाजाताहै।डाक्टरोंकीकमीकेकारणचिकित्सकोंकीड्यूटीकेघंटेबढ़ादिएगएहैं।खानानहींबननेकेकारणहीकिचनरूमकोदवाखानामेंतब्दीलकरदियागयाहै।

-डा.नवीनाबारला,प्रभारीउपाधीक्षक,अनुमंडलीयअस्पतालफुसरो

By Edwards