जागरणसंवाददाता,मैनपुरी:शहरकेमहमूदनगरमेंरहनेवालीआफरीनबानो(32)काफीसमयसेपेटकीतकलीफसेपरेशानहैं।मंगलवारकोउनकापेटदर्दबढ़गया।वहमहिलाअस्पतालपहुंचीं,लेकिनयहांलंबीलाइनथी।किसीतरहचिकित्सककेपासपहुंचनेकीबारीआई।लेकिनयेक्या?बसदर्दपूछतेहीचिकित्सकनेपर्चेमेंदवालिखदी।जबतककुछऔरकहतीं,तबतकदूसरेमरीजकोआवाजदेदीगई।पर्चेपरलिखीदवातोआफरीनबानोनेलेली।लेकिनउन्हेंसंतुष्टिनहींमिली।

जिलामहिलाअस्पतालमेंस्वास्थ्यसेवाओंकायहीसचहै।यहांमरीजसेउसकामर्जठीकसेपूछनेसेपहलेहीदवालिखदीजातीहै।इसकेपीछेचिकित्सककीअपनीमजबूरीहै।एकचिकित्सकपररोज350से400मरीजकोदेखनेकीजिम्मेदारीहै।यानीचिकित्सकएकमरीजकोमहजचालीससेकंडहीदेपाताहै।इनचालीससेकंडमेंबीससेकंडमरीजकानामरजिस्टरमेंदर्जकरनेऔरपर्चेपरदवालिखनेमेंबीतजातेहैं।यानीमरीजकीपरेशानीसमझनेकोमहज20सेकंडहीचिकित्सककेपासहैं।

दरअसल,महिलाअस्पतालकईवर्षोंसेविशेषज्ञचिकित्सकोंकीकमीसेजूझरहेअस्पतालकीदशासुधारनेकेलिएनतोप्रशासनिकस्तरपरप्रयासहुएऔरनहीसरकारनेसोचा।यहांमरीजोंकोराहतदेनेकेलिएआठविशेषज्ञचिकित्सकोंकीतैनातीकामानकहै।आठकेबजाएमहजतीनशिक्षकहीतैनातहैं।इनमेंनियमितरूपसेदोचिकित्सकहीअस्पतालआतीहैं।

मंगलवारकोस्थितियांविषमथीं।कक्षमेंडॉ.निशिता¨सहमरीजोंसेघिरींहुईथींतोकक्षकेबाहरदोदर्जनसेज्यादामरीजइंतजारकररहेथे।उन्होंनेबतायाकिप्रतिदिन350सेलगभग400मरीजअपनापंजीकरणकरातेहैं।सुबहनौबजेसेदोपहरएकबजेतकमरीजोंकापरीक्षणकियाजाताह।सुबहनौबजेसेदोपहरएकबजेतक240मिनटमेंएकमरीजकेलिएमात्र35से40सेकंडहीमिलपाताहै।प्रयासतोकरतेहैंकिबेहतरउपचारदेंलेकिनइतनेकमसमयमेंएकमरीजकोसहीढंगसेदेखपानाभीसंभवनहींहै।

इसलिएबदतरहैंहालात

जिलामहिलाअस्पतालमेंशासनस्तरसेआठविशेषज्ञचिकित्सकोंकेपदस्वीकृतहैं।लेकिन,वर्तमानसमयमेंमात्रतीनहीतैनातहैं।इनतीनमेंसे2015मेंयहांभेजीगईंविशेषज्ञचिकित्सकडॉ.अनीतासोनीतोचार्जलेनेकेबादआजतकयहांआईहीनहीं।डॉ.उमाचौधरीऔरडॉ.अरुणकुमारमुख्यचिकित्साअधीक्षकहीतैनातहैं।स्थितियहहैकिसीएमएसकेपदकीजिम्मेदारीकीवजहसेडॉ.अरुणकुमारज्यादामरीजोंकापरीक्षणनहींकरपाते।लिहाजासुविधाकेलिएमात्रएवंशिशुसौशैय्याअस्पतालसेडॉ.निशिता¨सहएवंडॉ.शैलजासचानकोयहांसंबद्धकियागयाहै।

40सेकंडमेंकैसेदेंउपचार

डॉ.निशिता¨सहकाकहनाहैकिमहिलाओंकीकईप्रकारकीसमस्याएंहोतीहैं।यदिमहिलागर्भवतीहैतोउनकाविभिन्नतरीकोंकापरीक्षणकरनापड़ताहै।ऐसेमेंसमस्याएंसुनकरउपचारभीदेनापड़ताहै।नियमत:देखाजाएतोएकमहिलाकेपरीक्षणऔरपरामर्शकेलिएकमसेकमपांचमिनटकावक्तमिलनाचाहिए।लेकिन,चिकित्सकोंकीकमीकीवजहसेऐसानहींहोपारहाहै।मरीजज्यादाहैंऔरविशेषज्ञकम।सुबहनौबजेसेदोपहरएकबजेतकमरीजोंकापरीक्षणकरतेहैं।इसकेबादऑपरेशनथियेटरऔरवार्डोंमेंभर्तीमरीजोंकापरीक्षणभीकरनापड़ताहै।

'कईवर्षोंसेविशेषज्ञचिकित्सकोंकीकमीहै।शासनकोपत्रलिखकरलगातारइसकीजानकारीदीजारहीहै।चिकित्सकोंकीमांगभीकीजातीहै,लेकिनआजतककोईसुनवाईनहींहोपाई।बावजूदइसकेप्रयासहोताहैकिमरीजोंकोबेहतरउपचारदेसकें।'

डॉ.अरुणकुमार¨सह,मुख्यचिकित्साअधीक्षक,जिलामहिलाअस्पताल।

By Ellis