नईदिल्ली(पीटीआई):क्याबिजलीकंपनीकीसेवामेंखामीहोनेपरलोगउससेहर्जानामांगसकतेहैं?यहसवालसुप्रीमकोर्टनेराष्ट्रीयउपभोक्ताआयोगसेपूछाहै।अदालतनेकहाहैकिआयोगबताए,बिजलीकाउपभोगकरनेवालेलोगकंस्यूमरप्रोटेक्शनएक्टकेतहत'कंस्यूमर'कीश्रेणीमेंआतेहैंयानहीं?सुप्रीमकोर्टनेकहाकिबिजलीकीसप्लाई,बैंकिंग,इश्योरेंसऔरट्रांसपोर्टसेजुड़ीसभीसेवाओंकाइस्तेमालकरनेवालेलोगएक्टकेतहतउपभोक्ताकहलातेहैं।लेकिनबिजलीइस्तेमालकरनेवालेलोगोंकेबारेमेंस्थितिस्पष्टनहींहै।खासकर,अभीयहस्पष्टनहींहैकिक्याबिजलीइस्तेमालकरनेवालेलोगखराबसर्विसमिलनेपरहर्जानेपानेकेहकदारहैं।कोर्टनेइसमामलेमेंआयोगसेउसकेविचारपूछेहैं।सुप्रीमकोर्टनेझारखंडसरकारकीयाचिकापरसुनवाईकरनेहुएयहबातकही।दरअसलरांचीकीउपभोक्ताअदालतनेराज्यसरकारकोअनवरअलीको50हजाररुपयेहर्जानादेनेकानिर्देशदियाथाक्योंकिअनवरअलीकोबिनाकिसीनोटिसकेबिजलीसप्लाईरोकदीगईथी।झारखंडसरकारनेयाचिकामेंकहाहैकिबिजलीकाअवैधइस्तेमाल,मीटरसेछेड़छाड़,मीटरकावितरणऔरबिजलीसप्लाईटेक्निकलमामलेहैंऔरइसपरउपभोक्ताफोरमफैसलानहींदेसकता।कंस्यूमरप्रोटेक्शनएक्टकेतहतकोईभीव्यक्तिजिसेरकमलेकरयावादेकेअनुरूपसर्विसदीजारहीहै,उपभोक्ताकहलाताहै।सुप्रीमकोर्टनेफिलहालराज्यसरकारकेहर्जानाचुकानेकामामलामुल्तवीकरदियाहैक्योंकिउपभोक्ताआयोगनेअभीबिजलीउपभोक्ताकेमामलेमेंस्थितिस्पष्टनहींकीहै।

By Duncan