जागरणसंवाददाता,गाजीपुर:अरबी-फारसीमदरसाबोर्डकेमदरसोंमेंआनलाइनकक्षाएंतोचलरहीहैं,लेकिनस्मार्टफोननहींहोनेसेबच्चेअपनीपढ़ाईनहींकरपारहेहैं।हालांकिअभीकुछदिनोंपहलेमदरसाबोर्डकीओरसेशिक्षकोंकोप्रशिक्षणदियागयाथा,लेकिनयहसबकुछबेमानीहोतानजरआरहाहै।बहुतसेछात्रऐसेहैंजिनकेपासस्मार्टफोननहींहोनेसेउनकीकक्षाएंनहींचलपारहीहैं।जिलेमें23अनुदानितव113गैरअनुदानितमदरसेसंचालितहोतेहैं।कुलमिलाकर136मदरसोंमेंकरीबआठहजारछात्र-छात्राएंशिक्षाग्रहणकरतेहैं।कोरोनाकेकारणमदरसोंकोबंदकरदियागयाऔरउनकीशिक्षाकाइंतजामआनलाइनकरदियागया।आर्थिकरूपसेकमजोरअधिकतरछात्रोंकेपासस्मार्टफोननहींहैनतोउनकेअभिभावकइंटरनेटकनेक्शनलेनेकाखर्चउठापारहेहैं।ऐसेमेंउनकोआनलाइनशिक्षालेनेमेंकाफीदिक्कतोंकासामनाकरनापड़रहाहै।अधिकतरबच्चेपड़ोसीबच्चोंकीमददसेशिक्षाग्रहणकरतेहैंतोकुछउनकीकापियोंकोलेकरशिक्षापूरीकरलेतेहैं।

मदरसाशिक्षकोंकोदियागयाप्रशिक्षण

-अरबी-फारसीबोर्डकीओरसेमदरसाशिक्षकोंको15-15दिनोंकाप्रशिक्षणडायटकेशिक्षकोंनेदियाथा।इसमेंबतायागयाथाकिकिसतरहसेस्मार्टफोनकेजरिएआनलाइनशिक्षादीजासकतीहै।इसदौरानआनलाइनशिक्षाकीबारीकियोंकोबतायागयाथा।मदरसोंमेंपढ़नेवालेअधिकतरबच्चेआर्थिकरूपसेबेहदकमजोरहैं।नतोउनकेअभिभावकोंकेपासस्मार्टफोनहैंऔरनवहइंटरनेटकनेक्शनकाखर्चउठासकतेहैं।ऐसेमेंपढ़नेकीआनलाइनव्यवस्थाकारगरसाबितनहींहोरहीहै।

-मौलानाताजमुहम्मद,प्रधानाचार्य,चश्म-ए-रहमतओरिएंटलकालेज।

By Ellis