कोलकाता, राज्यब्यूरो।  बंगालविधानसभाचुनावसबकीनिगाहेंपूर्वमेदिनीपुरजिलेकेनंदीग्रामपरटिकीहै।बुधवारकोपीएमनरेंद्रमोदीनेपूर्वमेदिनीपुरकेकांथीमेंजनसभाकोसंबोधितकरतेहुएनंदीग्रामऔरयहांकेझींगापालककिसानोंकेबारेमेंबातकरनानहींभूले।2007मेंनंदीग्रामकेकिसानोंकीभूमिउच्छेदप्रतिरोधकमेटीकीओरसेकेमिकलहबबनानेकेखिलाफकिएगएआंदोलनसेबदलाराजनीतिकपरिदृश्यएकबारफिरबदलतादिखरहाहै।इनसबकेबीचनंदीग्रामकेबड़ीसंख्यामेंकिसानभीमालामालहोरहेहैं।झींगाउत्पादनयहांकेकिसानोंकोनईउम्मीददीहै।

नंदीग्रामकेलोगोंनेझींगाकेसहारेनईजिंदगीशुरूकीहै।झींगाकाबड़ेपैमानेपरयहांउत्पादनहोताहै,औरयेदेशकेअलग-अलगहिस्सोंकेसाथविदेशोंमेंभीभेजाजाताहै।झींगाकाउत्पादनकरनेवालेकिसानोंकेमुताबिक,चीन,जापान,ताइवानऔरअमेरिकाजैसेदेशोंमेंइनकीभारीमांगहै।लोगोंनेइनमछलियोंकोपालनेकेलिएअपनेघरोंकेसामनेहीछोटे-छोटेतालाबबनाकररखेहैं।

वहींबड़ेकिसानोंनेअपनेखेतोंमेंबड़े-बड़ेतालाबबनाकरवहांझींगापालनशुरूकियाहै।इनबड़ेतालाबोंकेपानीमेंऑक्सीजनकीमात्राबढ़ानेकेलिएमशीनेंभीलगाईजातीहैं।नंदीग्राममेंझींगापालनकरनेवालेकिसानोंकाकहनाहैकिएकबड़ेतालाबमें2से2.50लाखझींगाडालेजातेहैं।येझींगां60-65दिनोंमेंबेचनेलायकहोजातेहैं।करीब5-7सालपहलेवहजहांमहीनेमेंखेतीसे8-10हजाररुपयेकमातेथे,वहींअबएकमहीनेमेंऔसतन60से70हजाररुपयेकमालेतेहैं।जानकारीकेमुताबिक,नंदीग्राममें15000सेज्यादाकिसानअपनेखेतोंकाइस्तेमालझींगाउत्पादनकेलिएकररहेहैं।सिर्फनंदीग्राममछलीकेशौकीनोंको4000टनझींगाउपलब्धकराताहै।

By Doyle