संवादसहयोगी,चितपूर्णी:पौंगबांधमेंबर्डफ्लूफैलनेकाप्रभावचितपूर्णीक्षेत्रमेंभीदेखनेकोमिलरहाहै।स्थानीयलोगभीइसेलेकरअतिरिक्तसतर्कताबरतरहेहैं।हालांकिचिकनकीदुकानोंपरमांसवअंडेउपलब्धतोहैंलेकिनइनकीबिक्रीमेंभारीगिरावटदर्जहुईहै।स्वास्थ्यविभागकाभीकहनाहैकिबर्डफ्लूकीआहटसेफिलहालचिकनवअंडेखानेसेपरहेजकरनाचाहिए।

दरअसल,चितपूर्णीक्षेत्रकोबर्डफ्लूकीदृष्टिसेइसलिएभीसंवेदनशीलकहाजासकताहैक्योंकिइसक्षेत्रकीसीमाजिलाकांगड़ाकेसाथलगतीहैऔरइसक्षेत्रमेंमछलीकेमांसकीआपूर्तिपौंगबांधक्षेत्रसेहीहोतीहै।हालांकिअबसप्लाईपूरीतरहसेबंदहैऔरयहांमछलीभीनहींबेचीजारहीहै।लेकिनचिकनवअंडेकेशौकीनभीइनखाद्यपदार्थोसेपरहेजकररहेहैं।ऐसेमेंइसव्यवसायसेजुड़ेदुकानदारबेहदपरेशानहैं।विशेषरूपसेपोल्ट्रीफार्मव्यवसायसेजुड़ेलोगभीबर्डफ्लूकेकारणसकतेमेंआगएहैं।कोरोनावायरसकासंक्रमणजबशुरूहुआतोतबभीउनकाव्यवसायबुरीतरहसेप्रभावितहुआथा।

20रुपयेकाअंडादसमेंभीनहींखरीदरहेलोग

धर्मसालमहंतामेंमुर्गीपालनव्यवसायकरनेवालेमाधवेंद्रसिंहनेकहाकिउन्होंनेदेसीमुर्गियांरखीहुईहैं।पहलेमुर्गीकाअंडाबीसरुपयेमेंबिकरहाथा,लेकिनअबदसरुपयेमेंभीलोगनहींखरीदरहेहैं।गंगूनालामेंचिकनकाव्यवसायकरनेवालेमुकेशकहतेहैंकिपहलेतैयारकियाहुआचिकनवहदुकानपरप्रतिकिलोग्रामचारसौरुपयेमेंबेचतेथे,लेकिनअबतीनसौरुपयेमेंभीग्राहकनहींखरीदरहेहैं।बर्डफ्लूकाप्रकोपफैलताहैतोरेटऔरभीकमहोसकहैं।

उधर,खंडचिकित्साअधिकारीडा.राजीवगर्गनेबतायाकिफिलहालस्वास्थ्यविभागकीतरफसेकोईदिशानिर्देशजिलामेंजारीनहींहुएहैं।बावजूदइसकेबर्डफ्लूकेखतरेकोध्यानमेंरखतेहुएमांसवअंडेकेसेवनसेबचनाहीचाहिए।