टाटीझरिया:पिछले4सालसेप्रखंडक्षेत्रमेंघूमघूमकरमहिलास्वयंसहायताग्रुपबनानेकाकामकररहीहैबेरहोनिवासीपूनमकुमारी।प्रखंडक्षेत्रकेबेरहो,होलंग,टाटीझरिया,मुरुमातु,मुरकी,डुंगों,धरमपुर,डूमर,कोल्हू,सिझुसमेत50सेअधिकगांवमेंजाकरमहिलाओंकीकमेटीबनानेकाकामइन्होंनेकियाहै।महिलास्वयंसेवीग्रुपकोबैंकसेजोड़ाहै।उनमहिलाग्रुपोंकोबचतकरवानेकीआदतडालीहै।महीनेमेंएकबारसामूहिकबैठकभीकरवातीहैं।उनकेबचतकीराशिकोबैंकोंमेंजमाकरवातीहैं।उन्हेंरोजगारकरनेकेलिएप्रेरितभीकरतीहैं।कईग्रुपोंकोबकरीपालन,मुर्गीपालन,सुअरपालनकेकार्योंकेलिएऋणभीदिलवायाहैऔरउसकीनिगरानीकरउन्हेंअपनेपैरोंपरखड़ाकरवाईहै।जेएसपीएलसेइन्होंनेग्रुपकोनिबंधितकरवाकरब्लॉकसेजोड़दियाहै,ताकिउनकेग्रुपकोसरकारीलाभमिलसके।प्रत्येकमाहमेंएकबारप्रखंडमेंभीग्रुपकेपदाधिकारियोंकेसाथबैठकरसमस्याकोदूरकरवानेमेंमुख्यभूमिकामेंहैं।इन्होंनेप्रखंडके445ग्रुपकोभलीभांतिसंचालितकरवारहीहै।सालमेंएकबारइनग्रुपोंकासम्मेलनभीकरवातीहै,जिसमेंसभीखुलकरअपनाविचाररखतेहैं।

शुरूकेदिनोंमेंयहप्रदानस्वयमसेवीसंस्थाकेज्योतिऔरशिल्पीरायकेसाथमिलकरअलगपहचानबनाईहैं।येजनजागरणनामकसंस्थामेंभीरहकरसमाजमेंपहचानबनाईहै।

By Doyle