गुरुग्राम(प्रियंकादुबेमेहता]। CBSE10thResult2020: नाविककेधैर्यऔरकौशलकीअसलपरीक्षाउससमयहोतीहैजबधाराएंप्रतिकूलहोंऔरवहअपनीकुशलतासेनावकोमझधारसेसुरक्षितनिकाललाए।विपरीतपरिस्थितियोंमेंइसीधैर्यकाउदाहरणदियाहैदिल्लीपब्लिकस्कूल,सेक्टर45केविद्यार्थियोंअधीपचौहानऔरकृतिअग्रवालने।इनविद्यार्थियोंनेशारीरिकदिव्यांगताकेबावदूकेंद्रीयमाध्यमिकशिक्षाबोर्ड(सीबीएसई)कीदसवींवबारहवींकक्षाकीपरीक्षामेंबेहतरीनअंकअर्जितकरसफलतापाई।इसीतरहसेइसीस्कूलकीछात्रादामिनीनेआर्थिकरूपसेकमजोरहोनेकेबावजूदअच्छेअंकप्राप्तकरदिखादियाकिसंसाधनोंकेअभावकिसतरहकठिनपरिश्रमसफलतादिलवासकताहै।

मेहनतऔरआत्मविश्वाससेमिलीकामयाबी

अपनीलगन,मेहनतऔरआत्मविश्वासकेबूतेअधीपचौहानने12वींकक्षामें90फीसदअंकप्राप्तकिए।उन्होंनेलगातारपढ़ाईजारीरखीताकिअपनेभविष्यकोउज्ज्वलबनासकें।वेमनोवैज्ञानिकबननेकालक्ष्यरखतेहैं।उनकाकहनाहैकिजंगमेंआधीजीतयाहारमनपरनिर्भरकरतीहै।ऐसेमेंकठिनपरिस्थितियोंमेंभीआत्मविश्वासकैसेरखाजाए,वेलोगोंकोबतानावसिखानाचाहतेहैं।डिस्लेक्सिकहोनेकेकारणउनकीपढ़ाईकाफीप्रभावितहुईलेकिनउन्होंनेहारनहींमानीऔरब्रेकलेलेकरपढ़ाईजारीरखी। मांदीपिकाचौहानऔरपितारजनीशचौहानकेअलावाछोटेभाईनेभीअधीपकीपढ़ाईमेंबहुतमददकीहै।अधिकखालीवक्तमेंपेंटिंगऔरजोगिंगकरनापसंदकरतेहैं।पढ़ाईकेदौरानबीच-बीचमेंबोरियतसेबचनेकेलिएवेजोगिंगकरतेहैं।

शारीरिकव्याधिनहींतोड़पाईजज्बा

बारहवींकक्षामें90प्रतिशतअंकप्राप्तकरनेवालीकृतिचलफिरनहींसकती।उन्हेंजन्मसेहीलोकोमोटरडिसएबिलिटीहै।बावजूदइसकेउन्होंनेपरीक्षामेंअच्छेअंकोंकेसाथसफलतापाई।दसवींकक्षामें96.8प्रतिशतऔरबारहवींमें95.25प्रतिशतअंकप्राप्तकिए।वेआगेकीपढ़ाईइकोनॉमिक्सअॉनर्समेंकरकेपॉलिसीमेकिंगविभागमेंकामकरनाचाहतीहैंताकिवेसमाजकेउत्थानमेंयोगदानदेसकें।मांटूनाअग्रवालऔरपिताअसीमअग्रवालकीइकलौतीबेटीकृतिकोसंगीतऔरलेखनकाशौकहै।वेस्माइलफाउंडेशनकेलिएब्लॉगलेखनभीकरतीहैं।खालीसमयमेंकमजोरोंकोपढ़ातीहैं।उन्हेंअंतराष्ट्रीयस्तरपरड्यूकअफइडनबर्गकाकांस्यऔररजतपदकभीमिलचुकाहै।

संसाधनोंकेअभावमेंभीपाईसफलता

प्रतिभावानविद्यार्थियोंकेसाथबैठकरपढ़ना,अंग्रेजीपरअच्छीपकड़नहोनाऔरउसकेऊपरसेसंसाधनोंकेअभावमेंअच्छोंअच्छोंकेहौंसलेजवाबदेजातेहैंलेकिनस्कूलकारखरखावकरनेवालेकीबेटीदामिनीनेदसवींकीपरीक्षामें68.4प्रतिशतअंकप्राप्तकरकेदिखादियाहैकिअगरलगनहोतोकोईभीचुनौतीछोटीहोजातीहै।पांचवींकक्षामेंदिल्लीपब्लिकस्कूलमेंदाखिलालेनेकेबाददामिनीकोलगाकिउनकेलिएराहेंबहुतमुश्किलहै।अन्यविद्यार्थीफर्राटेदारअंग्रेजीबोलतेऔरदामिनीकीपकड़इसभाषापरनहींथी।धीरे-धीरेउन्होंनेअंग्रेजीसीखीऔरबाकीविद्यार्थियोंकेसाथकंधेसेकंधामिलाकरचलनेयोग्यबनाया।सीबीएसईपरीक्षामेंउन्होंनेपरिस्थितियोंकेविपरीतहोनेकेबादभीबेहतरअंकप्राप्तकिए।पितादिनेशचंदऔरनीलमकीबेटीदामिनीनेअपनेअपनेआत्मविश्वासकेबूतेकक्षानौंमेंपहुंचते-पहुंचतेवहप्रतिभादिखाईकीवेविद्यार्थीनेतृत्वटीमकाहिस्साबनगईं।आगेकीपढ़ाईवेअर्थशास्त्रसेकररहीहैंऔरआगेचलकरवेबालमनोवैज्ञानिकबननाचाहतीहैं।अपनीसफलताकाश्रेयवेस्कूलप्राचार्यवशिक्षकोंकोदेतीहैं।