जासं,चकिया(चंदौली):सरकारीवनिजीअस्पतालोंमेंशुक्रवारकोमरीजोंवतीमारदारोंकीसंख्यानहींकेबराबररही।वार्डमेंएकभीमरीजभर्तीनहींहोसका।इससेबेडखालीरहे।नगरकेजिलासंयुक्तचिकित्सालयसहितकस्बाईइलाकोंकेस्वास्थ्यकेंद्रमेंएकजैसेहालतरहे।अधिकतरचिकित्सकवस्वास्थ्यकर्मीदोपहरबादअपने-अपनेआवासमेंचलेगए।हालांकिआपातचिकित्साकेलिएचिकित्सकवकर्मीमुस्तैददिखे।संयुक्तचिकित्सालयमेंहादसेकेशिकारव्यक्तिहीइलाजकरानेपहुंचे।

नगरकाजिलासंयुक्तचिकित्सालयबराबरमरीजोंवतीमारदारोंकीभीड़सेगुलजाररहता,अधिकतरबेडपरड्रिपसेटलगेमरीजदिखाईपड़तेहैं।यहांआइसोलेशनवार्डभीबनायागयाहै।लेकिन,लॉकडाउनकेदौरानसभीबेडखालीपड़ेहैं।वैसेप्रत्येकसालगर्मीकीशुरुआतहोतेहीवार्डमरीजोंसेपटजातेथे।शुक्रवारकोहादसेकेशिकारछहमरीजआए,जिनकाउपचारआपातचिकित्साकक्षमेंकियागया।हालतमेंसुधारकेबादउन्हेंछुट्टीदेदीगई।वहींपोषणपुनर्वासकेंद्रमेंचार-पांचछोटेबच्चेभर्तीहैं।उनकीकिलकारीसुनाईदेरहीथी।कस्बाईप्राथमिकस्वास्थ्यकेंद्रोंमेंकमोवेशयहीहालरहा।मरीजोंकेनहींपहुंचनेसेओपीडीमेंसन्नाटापसरारहा।यहांभीचिकित्साटीममुस्तैदरही।आपातचिकित्साकक्षमेंहादसेकेशिकारसुक्खू(65),बुधना(60),राजेश(34),अजय(55),रत्नेश(30)विमलेश(40)काइलाजकियागया।अस्पतालकर्मियोंकेआवासमेंरहनेवालेउनकेपरिजनलॉकडाउनकापालनकररहेहैं।डा.संजयकुमार,शांति,आशा,हरिद्वार,ममतात्रिपाठीआदिनेबतायाकिघर-परिवारसेदूररहकरकोरोनावायरससेजंगजीतनेकोलोगोंकीसेवाकोतत्परहैं।

By Ellis