कोरोनोसेहुईमौतोंसेअधिकयहांजिंदगियोंकीकहानियांहै।हजारोंलोगोंनेअपनीइच्छाशक्तिसेकोरोनाकोहरायाहै।ऐसेही‘जिंदादिलों’केइच्छाशक्तिसेकोरोनापरविजयप्राप्तकरनेकीकहानियांहमआपतकपहुंचारहेहैं।

कोविडकीदूसरीलहरमेंयूपीकावाराणसीशहरसबसेअधिकसुर्खियोंमेंरहा।वाराणसीअपनेफक्कड़पनकेलिएमशहूरहै।लेकिनमहामारीनेबनारसकायहीरसछीनलियाथा।उल्लासऔरमस्तीकाशहरबनारसकोरोनाकीवजहसे‘शोकमेंसिसकने’लगाथा।जीवनपरमौतभारीपड़रहीथी।हालांकि,यहशहरअपनेमनोबलऔरइच्छाशक्तियोंकेबलपरफिरपुरानेरौमेंआरहाहै।कोरोनोसेहुईमौतोंसेअधिकयहांजिंदगियोंकीकहानियांहै।हजारोंलोगोंनेअपनीइच्छाशक्तिसेकोरोनाकोहरायाहै।ऐसेही‘जिंदादिलों’केइच्छाशक्तिसेकोरोनापरविजयप्राप्तकरनेकीकहानियांहमआपतकपहुंचारहेहैं।

के

नेबनारसकेडाॅ.अजयकृष्णचतुर्वेदीसेबातकीहै।कोरोनासंक्रमणहोनेकेबादवहबेहदविपरीतपरिस्थितियोंसेगुजरतेहुएअपनीइच्छाशक्तिऔरपरिवारकेहौसलेसेअज्ञातशत्रुपरविजयप्राप्तकरचुकेहैं।कोरोनावायरसकोउन्होंनेकैसेहराया,इसपरउन्होंनेविस्तृतबातचीतकीहै।

महामारीअपनेचरमपरथी।भगवानशिवकीनगरीमेंतबाहीमचीहुईथी।मस्तमौलाबनारससिसकरहाथा।मातमकामाहौलथा।संगी-साथियोंकेजानेकीखबरेंआरहीथी।8अप्रैलकोकामकरतेकरतेहरारत-थकानमहसूसहुआ।कामकरनाबंदकिया।खानेकीइच्छानहींहुई।एकदवालीऔरसोगया।अगलेदिनभीयहीहालरहा।उसदिनभीदवाकीआधीगोलीखाकरसोगया।लेकिनतीसरेदिनमाथाठनका।समझगयाकिसंक्रमणहोचुकाहै।बनारसमेंरामकृष्णमिशनअस्पतालकेसामनेमेरेपरिचितविनोदत्रिपाठीकीदवाकीदूकानहै।उनकेपासगया।उन्होंनेतत्कालतीनदवाइयांदीऔरकहातुरंतघरजाइए।सलाहदीकितत्कालक्वारंटीनहोजाएं।गर्मपानीपीजीए।गराराकरिएऔरभापलेतेरहिए।घरआया।हरिद्वारमेडिकलकाॅलेजमेंकार्यरतअपनेसालडाॅ.संजयत्रिपाठीकोफोनकिया।उन्होंनेदवाइयोंकेबारेमेंपूछाऔरउसेहीखातेरहनेकीसलाहदी।

अगलीसुबहउठा।दवाखानेलगाथा।नीचेबाथरुमगयाऔरजबनिकलातोआंखोंकेआगेअंधेराछागया।चक्करआनेलगातोवहींसीढ़ियोंपरबैठगया।बेटादौड़तेहुएमेरेपासजबतकपहुंचातबतकमैंबेहोशहोगया।दो-तीनमिनटमेंहोशआया।एकदोमित्र-परिचितआगए।बीपी-शुगरचेककियातोदोनोंलोथा।डाॅक्टरनेबीपीकीदवातुरंतबंदकरनेकीसलाहदी।कमजोरीबढ़रहीथी।

दवाखारहाथा।कमजोरीकीवजहसेउठना-बैठनामुश्किलहोनेलगा।एकदिनरातमेंकरीबदोबजेअचानकसेमहसूसहुआकिसबकुछखत्महोरहा।दिलबैठाजारहाथा।पत्नीभीपासआगईं।बच्चेभीदौड़ेपहुंचे।मनमेंअचानकतमामख्यालआनेलगे।लेकिनकुछहीपलमेंखुदकोसमेटा।ईश्वरकोयादकिया।फिरखुदहीअपनामनोबलबढ़ातेहुएसोचनेलगाकिघर-परिवारकीबहुतसीजिम्मेदारियांहैं।अभीतोबहुतकुछकरनाहै।बेचैनीबढ़तीजारहीथी।पांच-सातमिनटमेंहीबेचैनीऔरबढ़ीतोकमरेसेनिकलकरबालकनीमेंकिसीतरहगया।काफीदेरतकवहांरहा।थोड़ाआराममिलातोफिरवापसआया।बिस्तरपरपहुंचातोकुछदेरमेंफिरनींदआगई।

सुबहकरीबसाढ़ेसातबजेनींदखुली।थोड़ाबेहतरफीलहोरहाथा।आंखेखोलकरदेखातोपत्नी-बेटा-बेटीसबकमरेमेंहीबैठेहैं।येलोगरातभरजगेरहेऔरमैंनींदलेतारहा।एकसप्ताहतकबिस्तरसेउठनेकीस्थितिनहींरहीं।

परेशानीकईबारबढ़जातीथी।आक्सीजनलेवलभीकईबार85-86तकगयालेकिनमैंनेठानलीथीकिघरपरहीसारेकोविडप्रोटोकाॅलकापालनकरस्वस्थहोनाहै।

हरओरहाहाकारमचाथा।खुदपल-पलबीतनेपरईश्वरकोधन्यवाददेरहाथा।सोशलमीडियासबसेअधिकभयमनमेंभररहाथा।मनपूरीतरहसेडिप्रेशनमेंपहुंचजारहाथा।दवाईकाअसरसोशलमीडियाबेअसरकररहाथा।खौफऔरडरकेसाएमेंएकदिनफेसबुकपरलिखाकिएक-एकसांसकेलिएलोगसंघर्षकररहेकृपयाडराएनहीं।

मेरीपोस्टकोमेरेपरिचितऔरबीएचयूकेकार्डियोलाॅजिस्टडाॅ.ओमशंकरनेपढ़ातोतत्कालफोनकिया।फिरउन्होंनेभीपूरास्टेटसजाननेकेबादकुछऔरदवाइयांलेनेकोकहाऔरखुदइलाजशुरूकरदिया।

16अप्रैलकेबादथोड़ासुधारशुरूहुआ।27अप्रैलतककरीब-करीबमैंठीकहोगया।लेकिनकमजोरीजसकीतसबनीरही।दवासमयसेलेना,समयसेखानाऔरईश्वरकीअराधनाभीकरतारहा।

इसीबीचसाथकामकरनेवालेएक-एककरतीनसाथियोंकेजानेकीसूचनाएंमिली।सीनियरजर्नलिस्टअजयशंकरतिवारी,बद्रीविशाल,रामेंद्रसिंह।तीनोंचलेगए।इनकेजानेकीसूचनाओंसेबार-बारदिलबैठाजाता,मनकांपउठता।लेकिनकुछपरिचितऔरविशेषकरपत्नी-बच्चोंनेमुझेडिप्रेसनहींहोनेदिया।

मैंएक-एकदिनहाररहाथा।लेकिनपत्नीऔरदोनोंबच्चेमेरासंबलबनेहुएथे।कमजोरीकीवजहसेचल-फिरनहींसकताथा।लेकिनधीमीआवाजकोभीवहसुनलेते।मेरीएकआवाजपरझटसेआजाते।हरसमयमेराख्यालरखते।मनोबलकोकभीटूटनेनहींदेते।अनवरतबिनाथकेयेतीनोंसदस्यमेरीसेवाकरतेरहे।कमजोरीकीहालतमेंभीकईमंत्रपढ़ता,हनुमानचालीसापढ़ताथा।पढ़ते-पढ़तेकईबारकांससखोबैठतातोपत्नीमुझेसंभालती।मैंकोविडकोहरापायाहूंतोयहएकतरहसेयहमेरापुनर्जन्महुआहैऔरयहपुनर्जन्ममेरीपरिवारकीदेनहै।मुझेदवादेकरतत्कालरोगकोपहचाननेवालेविनोदत्रिपाठी,मेरेसालेडाॅ.संजयत्रिपाठी,डाॅ.विजयत्रिपाठी,योगेंद्रनारायणशर्मा,डाॅ.ओमशंकरकाविशेषयोगदानरहा।

कोविडमरीजोंकीबेहतररिकवरीअस्पतालोंमेंइसलिएनहींहोपातीहैक्योंकिअस्पतालोंमेंउनकीदेखभालवालाकोईनहींरहता।कोईजरूरतहोतोकोईसुननेवालानहीं।अकेलापनऔरघुटनउसेऔरपरेशानकरताहै।आईसोलेशनकामतलबयहनहींकिकोईपूछेहीनहीं।परिवारअगरसंबलबनेतोआपकिसीभीपरिस्थितिसेउबरसकतेहैं।परिवारमेंरहनेकाफायदाहोताहैकिवहआपनीछोटी-छोटीजरूरतोंकोसमझतेहैं।इससेकंफिडेंसलेवलबढ़ताहै।दूसरासोशलमीडियासेजितनाहोसकेव्यक्तिदूररहेतोवहआपनेमेंटलस्ट्रेसकोकमरखेगा।सोशलमीडियासेकेवलखौफपैदाहोरहाहै।