नईदिल्ली,लाइफस्टाइलडेस्क।Covid-19AffectingKids:कोरोनावायरसकीतीसरीलहरबच्चोंकेलिएखासतौरपरख़तरनाकसाबितहोसकतीहै।इसकोदेखतेहुएबड़ेअस्पतालोंकेडॉक्टरइसमहीनेबच्चोंमेंकोरोनावायरसइंफेक्शनबढ़नेसेमाता-पिताकोसचेतकररहेहैं।

इसमहीनेज़्यादाबच्चेकोविडपॉज़ीटिवपाएजारहेहैंक्योंकिवायरसकासंक्रामकवैरिएंटअबपूरेपरिवारकोप्रभावितकररहाहै।मदरहुडहॉस्पिटल,नोएडाकेपेडिएट्रिशनडॉ.निशांतबंसलकाकहनाहैकिज़्यादातरबच्चोंमेंहल्केलक्षणदेखेजातेहैं।बच्चोंमेंगंभीरमामलेकमदेखेगएहैंऔरअभीतकउनकाइलाजसंभवहोसकाहै।अगरहमइससालकीतुलनापिछलेसालसेकरेंतोहमपाएंगेकिइससालज़्यादाबच्चेकोविडसेप्रभावितहोरहेहैं।कोविडकीपहलीलहरमेंबच्चेसंक्रमितहोतेथेलेकिनउनमेंलक्षणनहींनज़रआतेथे,लेकिनइससालअबउनमेंबुखार,दस्त,सर्दीऔरखांसीजैसेलक्षणदिखतेहैं।जैसाकिघरकेबड़े-बुजुर्गोंमेंगंभीरलक्षणहोतेहैं,वैसेहीलक्षणअबबच्चोंमेंभीदिखरहेहैं।हालांकिबच्चेइसवायरससेज्यादापरेशानीनहींमहसूसकरतेहैं,लेकिनवेइन्फेक्शनकोज्यादालोगोंतकपहुंचानेकाकामकरसकतेहैं।हममानकरचलरहेहैंकितीसरीलहर0से18वर्षकेबच्चोंकेलिएज्यादागंभीरहोसकतीहै,इसीउम्रकेलोगोंकाअभीबड़ेपैमानेपरवैक्सीनेशननहींहोरहाहै।इसलिएयहज़रूरीहैकिनवजातशिशुओंकोमांकादूधपिलायाजानाचाहिएऔरउनकेकिसीभीबालचिकित्साटीकाकरणमेंदेरीनहींकरनीचाहिए।"

उजालासिग्नसग्रुपऑफ़हॉस्पिटलकेफाउंडरऔरडायरेक्टरडॉ.शुचिनबजाजनेकहा,"चूंकिनवजातशिशुकमज़ोरहोतेहैं,इसलिएउन्हेंस्तनपानकरानेकीसलाहदीजातीहैक्योंकिइससेशिशुकीइम्युनिटी(प्रतिरोधक)क्षमताबढ़तीहै।माता-पिताकेलिएअपनेबच्चोंकेटीकाकरणमेंदेरनहींकरनीचाहिएऔरटीकाकरणकैलेंडरकाकड़ाईसेपालनकरनाचाहिए।टीकेकेकिसीभीडोज़कोलगवानानहींभूलनाचाहिएक्योंकिइससेबच्चेसंक्रमणसेबचेरहेंगेऔरइसलिएबालचिकित्साटीकाकरणकोविडइन्फेक्शनकोरोकनेमेंअहमभूमिकानिभासकतेहैं।बच्चोंमेंदेखेजानेवालेसामान्यलक्षणबुखार,गैस्ट्रोएंटेराइटिसकेलक्षणऔरसांसकीसमस्याएंप्रमुखहैं।0से10सालकीउम्रकेबच्चोंकेलिएटीकाकरणउपलब्धनहींहोनेकेकारणबच्चेवायरसकेप्रतिज्यादासंवेदनशीलहोतेहैं।"

इंटीग्रेटेडहेल्थएंडवेलबीइंग(आईएचडब्लू)कॉउंसिलकेसीईओश्रीकमलनारायणनेकहा,"अगरहममहामारीकेइतिहासकोदेखें,तोहमेंपताचलेगाकिकोईभीमहामारीएकबारमेंहीख़त्मनहींहुई।महामारीबार-बारआतीहै,जबतकएंडेमिकनबनजाए।देशभरमेंफैलेकोविड-19कीदूसरीलहरसेहमचलरहीमहामारीकेलिएभीयहीउम्मीदकरसकतेहैं।यूरोपकेकुछदेशोंमेंपहलेहीकोविड-19कीतीसरीलहरआचुकीहैऔरयहदेखागयाहैकितीसरीलहरकेदौरानज्यादाबच्चेप्रभावितहुए।अगरभारतमेंतीसरीलहरआतीहै,तोहमयहांभीइसीतरहकाप्रभावदेखसकतेहैं।एकहेल्थकम्युनिकेटर(स्वास्थ्यसंचारक)औरएकमाता-पिताकेरूपमेंसबसेमुश्किलचीजबच्चेकावायरसकेप्रतिज्यादासंवेदनशीलहोनाहैंक्योंकिइसबीमारीकोठीककरनेकेलिएकोईदवामौजूदनहींहैऔरनहीबच्चेवर्तमानवैक्सीनेशनप्रोग्रामकेतहतआतेहैं।हालांकि,2सालसे18सालकीउम्रवर्गकेबच्चोंपरभारतबायोटेककोकोवैक्सीनकेफेज2/3क्लीनिकलट्रायलकरनेकीइजाजतदीगयीहै।2011कीजनगणनाकेअनुसारलगभग30प्रतिशतभारतीयजनसंख्या14वर्षसेकमउम्रकीहैं।"

क्योंकिइसवक्त18सेकमआयुकेबच्चोंकेलिएवैक्सीनउलब्धनहींहैऔरनहीकोविड-19काकोईइलाजहै,इसीलिएसावधानीसेबेहतरबचावकाऔरकोईतरीकानहींहै।

By Farmer