जागरणसंवाददाता,चरखीदादरी:रोहतकपीजीआइसेप्रतिनियुक्तिपरदादरीजिलेमेंआएचिकित्सकऔरप्रशिक्षुछात्रइनदिनोंमरीजोंकेउपचारमेंदिनरातजुटेहुएहैं।कोरोनाकेमरीजोंकेउपचारमेंयेलोगअहमभूमिकानिभारहेहैं।पीजीआइरोहतकसेन्यूरोलॉजीमेंडीएनबीकररहेमध्यप्रदेशकेशहडोलजिलानिवासीडा.बीरभानसिंहकेअनुसारवेजिलेमेंकोरोनाकेमरीजकेउपचारकेलिएनागरिकअस्पतालसहितकोविडअस्पतालमेंप्रतिदिनराउंडलेकरवहांदाखिलमरीजोंकाचेकअपकरतेहैं।इसकेसाथहीअस्पतालसेएमरजेंसीमेंकोईफोनआताहैतोतुरंतवहांपहुंचकरमरीजकीसहायताकीजातीहै।डा.बीरभानअपनीपत्नीवदोबच्चोंकोरोहतकस्थितघरपरछोड़करदादरीमेंलोगोंकीसेवाकररहेहैं।प्रबंधनपरनजररखरहेडा.नीरज

हिसारकेगांवभाटौलजाट्टाननिवासीपीजीआइरोहतकसेन्यूरोलॉजीमेंडीएनबीकररहेडा.नीरजभीदादरीकेलोगोंकीसुरक्षाकेलिए24घंटेसेवाएंदेरहेहैं।डा.नीरजकेअनुसारवेमरीजकेइलाजकेप्रबंधनकाकार्यदेखतेहैंऔरमरीजकेउपचारकेलिएअपनीसलाहदेतेहैं।डा.नीरजकेजाननेवालेकईलोगभीकोरोनाकीचपेटमेंआचुकेहैं।बावजूदइसकेवेलगातारलोगोंकीसुरक्षाऔरमरीजोंकेउपचारमेंलगेहुएहैं।वेंटिलेटरकासंचालनसंभालरहीडा.प्रियंका

महेंद्रगढ़निवासीडा.प्रियंकाअग्रवालरोहतकपीजीआइसेएनेस्थीसियाकररहीहै।डा.प्रियंकावर्तमानमेंदादरीमेंउपलब्धवेंटिलेटरकारखरखावदेखरहीहैतथाउनकेसुचारूसंचालनकोसुनिश्चितकररहीहै।डा.प्रियंकाकेअनुसारकोरोनासेग्रसितवेंटिलेटरपरउपचारलेरहेमरीजोंकीदेखभालबेहदजरूरीहै।ऐसेमेंउनकाकाममरीजकेउपचारकेलिएप्राथमिकआवश्यकताकीतरहहै।डा.प्रियंकाकीमातास्वयंबीमारहै।उसकेबावजूदवेयहांपरमरीजोंकीदेखरेखमेंलगीहुईहै।प्रशिक्षुछात्रकररहेउपचारमेंसहयोग

पीजीआइरोहतकसेदादरीमेंपहुंचेप्रशिक्षुछात्रोंमेंसिरसाकेगांवऔड़ानिवासीपूजागर्ग,फतेहाबादकेभूनानिवासीपारूलभुक्कल,रेवाड़ीनिवासीपारूलगुप्ताभीउन्हेंदिएगएकार्यकोबखूबीनिभारहीहै।येसभीएमएलआरकोविडअस्पतालमेंमरीजोंकीदेखभालऔरशहरमेंहोमआइसोलेटमरीजोंकीस्क्रीनिगकाकार्यकररहीहै।येछात्रकोरोनाकेकारणदुर्भाग्यवशमरचुकेलोगोंकीडेथआडिटकाकार्यभीकररहीहैं।ब्लैगफंगसकासमयपरइलाजजरूरी

डा.बीरभानवडा.नीरजकेमुताबिकब्लैकफंगसकोलेकरसमयपरइलाजशुरूकरनाबेहदजरूरीहै।देरीहोनेपरब्लैकफंगससेग्रसितमरीजकोजानतककाखतराहोसकताहै।उन्होंनेकहाकिपहलेसेकिसीगंभीरबीमारीसेग्रसितलोगोंमेंइसबीमारीकेहोनेकाअधिकखतराहै।एकआंखकालालहोजाना,आंखकेचारोंतरफलालीरहना,आंखसेपानीआनाऔरआंखकेचारोंतरफदर्दरहनाइत्यादिब्लैकफंगसकेप्रारंभिकलक्षणहैं।चिकित्सक,छात्रनिभारहेअहमभूमिका:उपायुक्त

उपायुक्तराजेशजोगपालनेकहाकिकुछदिनपहलेतकजिलेमेंवेंटिलेटरकोचलानेकेलिएफिजिशियनवएनेस्थेटिस्टनहींथे।नहीपर्याप्तसंख्यामेंस्वास्थ्यकर्मीजिलेमेंतैनातथे।जिलेकेलोगोंकीसुरक्षाकेलिएसरकारसेइसबारेमेंअनुरोधकियागयाऔरअबजिलेमेंप्रतिनियुक्तिपरतीनचिकित्सक,पांचप्रशिक्षुछात्रऔर16एमबीबीएसफाइनलईयरकेछात्रमरीजोंकेइलाजमेंअपनासहयोगदेरहेहैं।

By Doherty