जागरणसंवाददाता,नवांशहर:मूसापुरमार्गपरस्थितडीएवीस्कूलमेंप्रिसिपलसोनालीशर्माकेनेतृत्वमेंऑनलाइनशिक्षकदिवसमनायागया।इसदौरानडॉ.राधाकृष्णसर्वपल्लीकेचित्रकेसमक्षपुष्पअर्पितकरउन्हेंनमनकियागया।इसकेबादस्कूलकेअध्यापकोंनेविभिन्नप्रकारकीगेममेंभागलिया।इसदौरानसोनालीशर्मानेअपनेसंबोधनमेंअध्यापकोंसेकहाकिशिक्षकबच्चोंकेचरित्रनिर्माताहोतेहैं।बच्चेभीशिक्षकों,अपनेमातापितासहितबड़ोंकासम्मानकरें।शिक्षकबच्चोंकोप्रैक्टिकलज्ञानजरूरउपलब्धकरवाएं।अध्यापककारोलबच्चोंकीजिदगीमेंअभिभावकोंसेभीज्यादाहोता।अध्यापकएकबच्चेकीजिदगीकोसवारकरउसकाभविष्यउज्जवलबनासकताहै।उन्होंनेकहाकिगुरु-शिष्यपरंपराभारतकीसंस्कृतिकाएकअहमऔरपवित्रहिस्साहै।शिक्षकउसमालीकेसमानहै,जोएकबागीचेकोअलग-अलगरूप-रंगकेफूलोंसेसजाताहै।शिक्षाव्यक्तिकातीसरानेत्रहै,जिसकेद्वारावहअपनेजीवनकीहरलक्ष्यकोप्राप्तकरनेमेंअहमयोगदानडालतीहै।इसमौकेपरमंजु,अरुणाशर्मा,अमितासरीन,सपनाअरोड़ा,सुरेशकुमार,गुरप्रीत,प्रवीन,शिवकुमार,ज्योति,गोसांई,ज्योतिशर्मा,बलजिदरकौर,गुरदीप,संजीव,प्रवीणवसुरुचिखन्नाआदिभीमौजूदथे।

ਪੰਜਾਬੀਵਿਚਖ਼ਬਰਾਂਪੜ੍ਹਨਲਈਇੱਥੇਕਲਿੱਕਕਰੋ!

By Farrell