नईदिल्ली[संजीवकुमारमिश्र]। दिल्लीसरकारद्वारावित्तपोषितडीयूके12कॉलेजोंमेंशिक्षकोंकोविगततीनमाहसेवेतननहींमिलाहै।आंबेडकरकॉलेजमेंतोशिक्षकोंकोप्रदर्शनतककरनापड़ा।लेकिन,इसबीचउच्चशिक्षानिदेशालयकेएकनोटिससेडीयूप्रशासनभीसकतेमेंआगयाहै।निदेशालयनेदिल्लीसरकारद्वारावित्तपोषितकॉलेजोंमेंअधिकारियोंकीतैनातीकीहै।येअधिकारीवित्तीयलेनदेनकीनिगरानीकरेंगे।फिलहालइनकोछहमाहकेलिएनियुक्तकियागयाहै।

वित्तियलेनदेनपरनिगरानीरखेंगेअधिकारी

एककॉलेजप्राचार्यनेबतायाकिकुल12अधिकारीनियुक्तकिएगएहैं।येआडिटअधिकारीहैं,जिन्हेंकालेजोंकाअतिरिक्तचार्जदियागयाहै।हालांकि,निदेशालयकेइसकदमसेकॉलेजोंमेंकाफीरोषहै।एकप्राचार्यनेबतायाकिविगतएकसालसेहालातबिगड़तेजारहेहैं।

कोरोनाकालमेंजबशिक्षकोंकोपैसेकीसख्तजरूरतथीतोहमअनुदानकाइंतजारकररहेथे।अभीभीहालातनहींसुधरेहैं।करीबतीनमाहसेवेतननहींमिलाहै।वेतनमसलेपरदिल्लीविश्वविद्यालयशिक्षकसंगठन(डूटा)मेंमुखररहाहै।करीबतीनदिनपूर्वहीडूटानेदिल्लीकेमुख्यमंत्रीअरविंदकेजरीवालकोपत्रलिखाथा,जिसमेंकहागयाथाकिशिक्षकबहुतपरेशानहै।कृपयातत्कालअनुदानजारीकरनेकाआदेशदें।

By Duncan