वीरेंद्रओझा,जमशेदपुर:दीपावलीकीतैयारीजोर-शोरसेचलरहीहै।बिजलीकीदुकानोंमेंरंगबिरंगीलाइटकीलड़ियांसजीहैं,तोकुम्हारोंकीदुकानमेंमिट्टीकेदीयेसजरहेहैं।करीबपांचवर्षसेमिट्टीकेदीयेकाचलनबढ़ाहै।ऐसेमेंशहरकीएकमहिलागोबरसेदीयाबनारहीहैं,जोएकसाथकईखूबियोंकोसमेटेहुएहै।यहदीयादीपावलीकेबादउपहारमेंपौधेभीदेगा।

आयुर्वेदवप्राकृतिकचिकित्साविशेषज्ञसीमापांडेयकेनिर्देशनमेंगोबरकेदीपक,लक्ष्मी-गणेशकीप्रतिमा,गोबरकीधूपबत्तीआदिबनाईजारहीहै।पूजाकेबादइनदीयों-मूर्तिकोनदीयातालाबमेंविसर्जितकरनेकीआवश्यकतानहींहै।इसेआपअपनेघरकीबालकनीयाछतपररखेगमलेमेंरखदें।स्थानहोतोघरकेआंगनयाबगीचेमेंगड्ढाकरकेउसीमेंविसर्जितकरदें।जबइसमेंहरदिनथोड़ा-थोड़ापानीडालेंगे,तोकुछदिनबादइसमेंतुलसी,अपराजिता,गेंदाआदिकेपौधेउगतेहुएदिखेंगे।चूंकियहगोबरसेहीबनेहैं,इसलिएआपकोअलगसेखाददेनेकीआवश्यकतानहींपड़ेगी।

साठदीपोंसेहुयीथीशुरुआत

सीमाबतातीहैंकियहविशेषतामिट्टीकेदीया-मूर्तिमेंसंभवनहींहै,क्योंकिउन्हेंआगमेंपकायाजाताहै।गतवर्षइसकीशुरुआतकरीब60दीयोंसेहुईथी।इसबारउन्हेंकोलकातासे300दीयाकाआर्डरमिलचुकाहै,जिससेमहिलाओंमेंखासाउत्साहहै।इसकेअलावाशहरमेंभीकरीब400दीयेबिकेंगे।करीब150लक्ष्मी-गणेशकीप्रतिमाभीबनरहीहै।इसकेअलावापूजाकेदौरानजलानेकेलिएगोबरसेनिर्मितधूपबत्ती,धूपदानी,सजावटकेलिएऊं,श्री,स्वास्तिकआदिबनाएगएहैं।दीयापांचरुपयेऔरलक्ष्मी-गणेशकीप्रतिमाकीकीमत90रुपयेसेशुरूहै।इसमेंआदित्यपुरवमानगोकीकरीब50महिलाएंजुड़कररोजगारपारहीहैं।

गोबरकायहदीयानहींसोखतातेल

आमतौरपरकच्चीमिट्टी,गोबरयागोइठातेल-घीसोखलेताहै,लेकिनयहदीयातेलनहींसोखताहै।सीमापांडेयबतातीहैंकिइसेगोबरकोपहलेसुखाकरपाउडरबनालियाजाताहै।इसकेबादइसेएकगोंदनुमालेपमेंअच्छीतरहसानाजाताहै।यहलेपईमलीकेबीज,नीमकीपत्तीऔरगवारफलीकेबीजसेतैयारकियाजाताहै।गवारफलीकेबीजसेगोंदभीबनताहै।इसमिश्रणमेंमिलनेकेबादगोबरकामिश्रणसख्तहोताहैऔरइसकीसतहचिकनीहोजातीहै।इसकेबावजूदज्यादादिनतकपानीकेसंपर्कमेंआनेपरयेसभीपदार्थघुलजातेहैं।इसप्रकारसेयहदीयापर्यावरणसंरक्षणकेलिएहरदृष्टिकोणसेबेहतरहै।

गोमाताकोबचानामुख्यउद्देश्य

सीमापांडेयबतातीहैंकिहमारामुख्यउद्देश्यगोसेवाहै।यहविचारइसलिएआयाजबदेखीकिलोगदूधनहींदेनेवालीगायकोसड़कपरछोड़देतेहैं।इसकीवजहसेसड़कदुर्घटनाभीहोतीहै,तोअधिकांशकसाईकेहाथबेचदीजातीहैं।हमारेउपक्रमसेअबसूखीगायोंकाेभीलोगपालरहेहैं।इससेबहुतज्यादामुनाफानहींहोताहै,लेकिनहमेंइसबातकासुखमिलताहैकिहमगाेमाताकोबचापारहेहैं।इनकेगोबरवगोमूत्रसेकरीब40महिलागोपालकोंकोप्रतिमाहपांच-छहहजाररुपयेमिलरहाहै,जबकिकसाईसूखीगायोंकोचार-पांचहजाररुपयेमेंखरीदलेताहै।हमसभीआत्मनिर्भरहोरहेहैं,लेकिनहमाराउद्देश्यसिर्फधनकमानानहीं,पर्यावरणवगोमाताकीरक्षाकरनाहै।प्लास्टरऑफपेरिससेबनीमूर्तियोंकोविसर्जितकरनेसेनदीप्रदूषितहोतीहै,गोबरसेनहीं।भविष्यमेंहमगोबरसेधूपबत्ती,दीवारघड़ी,फ्लावरपॉट,पेनस्टैंडआदिबनानेजारहेहैं।

By Dyer