पहाड़ीइलाकोंमेंभारीबर्फबारीनेराजधानीदिल्लीसमेतमैदानीइलाकोंमेंपाराकाफीनीचेलादियाहै.सर्दहवाओंनेघरोंसेबाहरनिकलनामुश्किलकरदियाहै.ऐसेमेंबेघरलोगोंकीजिंदगीबेहालहै.हालातइतनेखराबहैंकिराजधानीमें14दिनोंकेअंदर96बेघरलोगोंकीमौतहोगईहै.मौतकेइसआंकड़ेसेनसिर्फठंडकेप्रकोपकाअंदाजालगायाजासकताहै,बल्कियहभीसमझाजासकताहैकिजिनकेसिरपरछतनहीं,उनकेलिएदिल्लीकितनीतैयारहै.ठंडसेमौतकायहदावासीएचडीनामकीएजेंसीनेकियाहै.

कपकपातीठंडकीवजहसेदिल्लीमें1से14जनवरीकेबीच96बेघरलोगोंकीमौतहोचुकीहै.हैरानकरनेवालेयहआकंड़ेसेंटरफॉरहोलिस्टिकडेवेलपमेंटकेहैं.सबसेज्यादामौतनार्थदिल्लीमेंहुईहैं.

सेंटरफॉरहोलिस्टिकडेवेलपमेंटकेआंकड़ोंकेमुताबिक,दिसंबर2018सेजनवरी2019तककुल331लोगोंकीठंडसेमौतहोचुकीहै.इसनें235लोगोंनेपिछलेदिसंबरमहीनेमेंअपनीजानगंवाई.जबकिनएसालके14दिनोंकेभीतरही96बेघरमौतकेमुंहमेंसमागए.येसबलोगबेघरथे,जोराजधानीदिल्लीमेंकामकीतलाशमेंरोजी-रोटीकेलिएआतेहैं.

एजेंसीनेक्याकहा

सेंटरफॉरहोलिस्टिकडेवेलपमेंट(सीएचडी)केसुनीलकुमारअलेडियाकेअनुसार1जनवरीसेलेकर14जनवरीकेबीच96बेघरोंकीमौतकाजोमामलासामनेआयाहै,उनमेंसबसेज्यादामौतेनार्थदिल्लीकेइलाकेमेंहुईहैं.कश्मीरीगेटकोतवाली,सिविललाइन,सरायरोहिलाइलाकोंमें,जहांसबसेज्यादारैनबसेरोंकेदावेसरकारकरतीहै.इनइलाकोंमें14दिनमें23मौतेहुईं.

सेंटरफॉरहोलिस्टिकडिवेलपमेंटनेबतायाकियेआंकड़ेगृहमंत्रालयकीवेबसाइटसेनिकलवाएगएहैंऔरयेदर्शाताहैकिदिल्लीकीजनताबिल्कुलठीकनहींहै.सीएचडीकेसुनीलअलेडियानेबतायाकिजोनलपुलिसरातमेंसड़कसेशवोंकोउठातीहै.

अबजबकिबर्फीलीहवाओंसेतापमानमेंभारीगिरावटदर्जकीजारहीहै,ऐसेमेंबेघरलोगोंकीमौतकाआंकड़ानबढ़ें,इसकेलिएसरकारकोपर्याप्तइंतजामकरनेहोंगे.

By Farmer