DelhiNews:दिल्लीसरकारनेशुक्रवारकोआर्थिकसर्वेक्षण2021-2022रिपोर्टजारीकीहै.इसरिपोर्टकेडेटासेपताचलाहैकिदिल्लीमेंपिछले6सालोंकेमुकाबलेइससालप्राइवेटस्कूलोंमेंकमएडमिशनहुएहैं.इसरिपोर्टकेअनुसारदिल्लीमेंसाल2020-2021मेंस्कूलोंमेंएमडिशनलेनेवाले44.8लाखछात्रोंमेंसे17.82लाखछात्रोंकाप्राइवेटस्कूलोंमेंएडमिशनथा.इससालकुलनामांकनमेंनिजीस्कूलोंकीहिस्सेदारी39.78रहीजोसाल2019-2020में42.65थी.

हरसालप्राइवेटस्कूलोमेंपिछलेछहसालोंसेनामांकनदरबढरहीलेकिनसाल2020-2021मेंकोरोनामहामारीकेदौरानपहलीबारयहदरघटीहै.प्राइवेटस्कूलोंमेंनामांकनसाल2014-2015सेलगातारबढ़रहाथा.जिसमेंप्राइवेटस्कूलोंकेनामांकनकाशेयर2014-2015में30.52फीसदीथा.इसकेबादसाल2015-16में 31.51%होगयाहै,2016-17)में39.95%,2017-18में41.70,2018-19में42.56और2019-2020में42.65प्रतिशतथा.

DelhiBudget2022:कलपेशहोगादिल्लीकाबजट,केजरीवालसरकारकरसकतीहैयेबड़ेएलान

दिल्लीकेस्कूलोंमेंकुलनामांकनमेंआईगिरावटकीवजहबच्चोंकेमाता-पिताकीआजीविकाकेनुकसानकेकारणस्कूलकीफीसकाभुगतानकरनाभीहै.क्योंकिमहामारीकेदौरानअधिकतरलोगोंकीनौकरीचलीगईथीऔरइकेसाथहीकईलोगोंकाबिजनेसभीबंदहुआथा.

साल2021-2022मेंकुलनामांकन44.79लाखथा,जो2014-2015केबादसबसेअधिकऔर2019-2020में44.76लाखसेअधिकहै.वहींप्री-प्राइमरीऔरप्राइमरीग्रेडमेंनामांकन2020-2021में21.08लाखसेघटकर20.01लाखहोगया,जबकिअन्यसभीग्रेडस्तरोंकेलिएयहबढ़गया.

By Duncan