आगरा,जागरणसंवाददाता।सनातनधर्मकीमान्यताकेअनुसारकार्तिकपूर्णिमाकेपावनदिनदेवतास्वर्गलोकसेधरतीपरआतेहैं।देवताओंकेधरतीपरआगमनकेस्वागतमेंदेवदीपावलीमनाईजातीहै।नदियोंऔरसरोवरोंकेतटोंपरदीपकप्रज्वलितकिएजातेहैं।आइए,इसबारहमसबभीताजनगरीकीधरापरदेवोंकेआमंत्रणकेलिएदेवदीपावलीमनाएं।देवताओंकेस्वागतमेंदीयेसेअपनेनजदीककेतीर्थकोरोशनकरें।हम

सभीपरंपराकेअनुसारयमुनाघाटपरदीपप्रज्वलितकरकेइसदिनकोयादगारबनाएंगे।दैनिकजागरणकेआह्वानपरजनभागीदारीसेयहांपर51हजारदीपकजलाएजाएंगे।कैलाशघाट,बल्केश्वरघाट।महालक्ष्मीमंदिरपरयमुनाघाटकीसीढि़योंपरदीपमालाएंटिमटिमाएंगी।वैदिकमंत्रगूजेंगे।इसआयोजनकेलिएकैलाशघाटपरकैलाशमंदिरट्रस्टकेसंरक्षकमहंतनिर्मलगिरीवबल्केश्वरघाटवबल्केश्वर।

महालक्ष्मीमंदिरघाटपरमहंतरमाकांतपांडेयवमुख्यसंरक्षकराधेकूपरनेव्यवस्थाकानिरीक्षणकिया।उन्होंनेअपनेनिर्देशनमेंघाटोंकीसफाईकराई।दीपोंकीरंगोलियावस्वास्तिकबनवाए।कैलाशघाटपरशुक्रवारकोतीसरेपहरचारबजेसेछहबजेवबल्केश्वरघाटपरतीसरेपहरपांचबजेयहकार्यक्रमहोगा।मिलतीहैईश्वरकीअसीमअनुकंपा:

ज्योतिषाचार्यआशिमाशर्मानेबतायाकिकार्तिकपूर्णिमापरनदियोंकेकिनारेदीपदानकरनेसेईश्वरकीअसीमअनुकंपामिलतीहै।शारीरिक,मानसिकएवंआर्थिककष्टोंसेमुक्तिमिलतीहै।सुखववैभवकीप्राप्तिहोतीहै।मान्यताहैकिसातजन्मोंतकव्यक्तिज्ञानीवधनवानबनारहताहै।यमुनाघाटोंपरदीपदानकरनेसेमनौतियांपूरीहोतीहैं।इसकार्तिकपूर्णिमाकोदेवदीपावलीपर्वहोनेकाभीबड़ामहत्वहै।प्रशंसनीयपहल

कार्तिकपूर्णिमापरपूर्वजोंकेनिमित्तदीपदानकरनेसेउनकीआत्मास्वर्गआरोहणकरतीहै।दैनिकजागरणकीयहपहलजनमानसकोसनातनपरंपराओंऔरसंस्कृतिसेजोड़नेकाअनुपमप्रयासहै।अधिकसेअधिकलोगोंकोदीपदानकरनाचाहिए।कैलाशमंदिरयमुनाघाटआपसभीकेस्वागतकेलिएतैयारहै।

महंतनिर्मलगिरी,मुख्यट्रस्टीकैलाशमंदिरट्रस्टहोतीहैमनौतियांपूरी:

देवउठनीकेदिनदेवताजागृतहोतेहैंऔरकार्तिकपूर्णिमाकेदिनघाटोंपरस्नानकरदिवालीमनातेहैं।इसलिएइसेदेवदीपावलीकहाजाताहै।इसीदिनसंध्याकालकोमत्स्यावतारहुआथा।इसपूर्णिमाकोब्रह्मा,विष्णु,शिव,अंगिराऔरआदित्यआदिनेमहापुनीतपर्वप्रमाणितकियाहै।इसदिनविधि-विधानपूर्वकपूजाकरनेसेमनौतियांपूरीहोतीहैं।

रमाकांतपांडेयमुख्यमहंतबल्केश्नरघाट

By Doyle