नईदिल्ली।आमबजटकेबादअबदिल्लीकेबजटकीबारीहै।इसेलेकरदिल्लीकेव्यापारियोंमेेंकाफीउम्मीदेंहैं।वेबाजारोंमेंआधारभूतविकासकीमांगकररहेहैं।साथहीकोरोनासेबाजारोंकोलगेझटकोंकेलिएबजटीयमरहमकीआसभीलगाएहुएहैं।दिल्लीसरकारद्वाराबजटकोलेकरआमलोगोंसेरायमांगीगईहै।कारोबारीसंगठनचैंबरआफट्रेडएंडइंडस्ट्री(सीटीआइ)द्वाराभीव्यापारियोंकीरायशुमारीकराईजारहीहै।व्यापारीकईतरहकीमांगरखरहेहैं।इसेलेकरनेमिषहेमंतनेसीटीआइकेचेयरमैनबृजेशगोयलसेबातचीतकी।प्रस्तुतहैअंश...

राज्यसरकारद्वाराबजटकीप्रक्रियाशुरूकरदीगईहै।सीटीआइकोक्याउम्मीदेंहै?

दिल्लीसरकारनेबजटकीप्रक्रियाशुरूकरदीहै।संभवत:अगलेमाहदिल्लीकाबजटआएगा।इसकेलिएराज्यसरकारकीओरसेहरतबकेकेलोगोंसेसुझावमांगेंहैं।राष्ट्रीयराजधानीमें10लाखदुकानेंहैं,उसमेंकरीब20लाखव्यापारीजुड़ेहुएहैं।बाजारसरकारकेराजस्वसेजुड़ाहुआमामलाहै।दिल्लीसरकारकाअकेले70प्रतिशतराजस्वव्यापारीवर्गसेआताहै।ऐसेमेंमौजूदासरकारभीइनकीसहूलियतोंकाध्यानरखरहीहै।उसनेखुदव्यापारियोंकेसाथहीसभीवर्गसेसुझावमांगेंहै।व्यापारियोंसेपूछागयाहैकिबाजारोंमेंक्यासुविधाएंबढ़ाईजाए,जिससेकिवहांग्राहककीसंख्याबढ़े।प्रमुखव्यापारीसंगठनहोनेकेनातेसीटीआइकीभीजिम्मेदारीहै।हमारेद्वाराभीरायशुमारीकराईजारहीहै।व्यापारियोंसेसुझावलियाजारहाहै।इसेलेकरहेल्पलाइननंबरभीजारीकियागयाहै।

सीटीआइकेसामनेव्यापारियोंनेक्या-क्यामांगेंरखीहै?

अबतक700सेज्यादाव्यापारिकसंगठनोंकेसुझावआएहैं।उनसुझावोंकोएकड्राफ्टकारूपदेकरजल्दहीदिल्लीसरकारकोसौंपाजाएगा।प्रमुखसुझावोंवमांगेंमेंदिल्लीकेबाजारोंकेलिएअलगसेफंडकीघोषणाकीहै,जिससेकीबाजारोंमेंआधारभूतसंरचनाओंकाविकासहोसके।बाजारसंगठनोंकेप्रतिनिधिचाहतेहैंकिउनकेबाजारोंकाविकासभीचांदनीचौककीतर्जपरहो।इसऐतिहासिकबाजारकाजिसतरहसेदिल्लीसरकारनेकायाकल्पकियाहै,वहदिल्लीक्यादेशभरकेबाजाराेंकेलिएनजीरहै।

इसीतरहव्यापारियोऔरबाजारकेलिएअलगकल्याणबोर्डबनानेकीमांगउठीहै।औद्योगिकसंगठनोंभीऔद्योगिकक्षेत्रोंमेंआधारभूतसंरचनाओंकेविकासकेलिएअलगसेफंडचाहतेहैं।इसीतरहहोटल,फैक्ट्रीवबैंक्वेटसमेतअन्यकेलिएवर्तमानमेंअग्निशमनविभागकाअनापत्तिप्रमाणपत्र(एनओसी)बड़ामुद्​दाबनाहुआहै।वस्तुएवंसेवाकर(जीएसटी)सेपहलेवैटकरथा,जिसकेमामलेअभीभीलंबितहै।इसेलेकरव्यापारीएकएमनेस्टीस्कीमचाहतेहैं।औद्योगिकइलाकोंऔरबाजारोंमेंसर्किलरेटकीविसंगतियाबनीहुईहै।कईबाजारोंमेंस्थानीयदुकानदारोंऔररेहड़ी-पटरीवालोंकेबीचसंघर्षकीस्थितिदेखीजारहीहै।वेइसपरभीएकस्पष्टनीतिचाहतेहैंताकियहटकरावखत्महो।

कोरोनासेकारोबारकाफीप्रभावितहुआहै,ऐसेमेंव्यापारीबजटमेंराहतकीआसलगाएहुएहैं?

दोसालोंसेचलेआरहेकोरोनाकेदौरसेव्यापारियोंकाकाफीनुकसानहुआहै।बाजारेंऔरदुकानेंबंदरहीहै।ऐसेमेंसीटीआइद्वारामांगेगएसुझावोंमेंव्यापारिकसंगठनोंनेकोरोनासेप्रभावितव्यापारकेलिएविशेषआर्थिकपैकेजकीमांगरखीहै।वेचाहतेहैंकिव्यापारियोंकोआर्थिकमददमिले।ताकिवेदोबाराकारोबारकोफिरसेखड़ाकरसके।

बजटसेसीटीआइकोक्याउम्मीदहै?

बजटसेहमेंकाफीउम्मीदेंहै।हमइनसुझावोंकोसरकारकोभेजेंगे।हमारीकोशिशहोगीकिजल्दहीकारोबारीसंगठनोंकेप्रतिनिधियोंकेसाथदिल्लीकेवित्तमंत्रीमनीषसिसोदियाकीबैठकहो,जिसमेंव्यापारियोंकीओरसेउन्हेंबजटकामसौदासौंपाजाए।हमआशाकरतेहैंकिबजटमेंसरकारखुदरावथोककेसाथहरतरहकेव्यापारियोंकापूराख्यालरखेगी।

सरकारकेकामकाजकोलेकरअभीतककेअनुभवकैसेहैं?

दिल्लीसरकारनेव्यापारकेहितमेंकईकदमउठाएहैं।भयमुक्त,भ्रष्टाचारवइंस्पेक्टरराजसेमुक्तमाहौलदियाहै।समय-समयपरव्यापारियोंकीमांगोंकोध्यानमेंरखतेहुएसरकारनेकईमहत्वपूर्णफैसलेलिएहैं।कोरोनाकालमेंजबई-कामर्ससेखुदरावथोककारोबारप्रभावितहुआतोसरकारनेखुदपहलकी।दिल्लीबाजारपोर्टलकाविचारसामनेरखाऔरउसपरतेजीसेकदमबढ़ाए।उम्मीदहैकिकुछमाहमेंयहपोर्टलभीबनकरतैयारहोजाएगा।इससेहरप्रकारकेलाखोंव्यापारियोंइससेजुड़सकेंगेतथावैश्विकस्तरपरअपनाकारोबारबढ़ासकेंगे।

By Doherty