उन्होंनेकहा,वनविभागकाखराबनेटवर्कएवंशिकारियोंकेबारेमेंखुफियाजानकारीकाअभावभीबाघोंकीमौतकेलिएजिम्मेदारहैं।प्रधानमुख्यवनसंरक्षक:वन्यप्राणी:जितेन्द्रअग्रवालनेकहाकिपिछलेकुछेकवर्षोंसेवन्यप्राणीसंरक्षणएवंसंवर्धनकेअंतर्गतराज्यमेंबाघोंपरऔसतनलगभग40से45करोड़रपएप्रतिवर्षखर्चहोरहेहैं।इसकेअलावा,उनगांवोंकेलोगोंकीपुनस्र्थापनाकेतहतभी10लाखरपएउसव्यक्तिकोदिएजातेहैं,जिसकीजमीनकोबाघोंकेआवासबनानेकेलिएखालीकरायाजाताहै।उन्होंनेकहा,व्यापारकेलिएबाघोंकेशिकारकमामलोंमेंहमकमीलानेमेंसफलरहेहैं,लेकिनकिसानद्वाराजंगलीजानवरोंसेअपनीफसलोंकोबचानेकेलिएलगाएगयेफंदेयाकरंटकीचपेटमेंआनेसेहुईबाघोंकीअबभीमौतहोरहीहै।इसकेलिएवनकर्मियोंकेगश्तकरनेकेअलावाहमलोगोंकोजागरूककररहेहैं।अग्रवालनेएकसवालकेजवाबमेंकहाकिबाघोंद्वारामारेगयेव्यक्तिकोराज्यमेंचारलाखरूपयेकामुआवजादियाजाताहै।हालांकिसरकारीकानूनकेतहतमुआवजाभुगतानकरनेकीसमय-सीमाएकहफ्तेहै,लेकिनहमअमूमनएकयादोदिनमेंमृतककेपरिजनकोमुआवजादेदेतेहैं।

By Duncan