देहरादून,[जेएनएन]:दूनमेडिकलकॉलेजअस्पतालमेंएंटीरेबीजवैक्सीनखत्महोनेसेमरीजोंकोपरेशानीझेलनीपड़रहीहै।उन्हेंयहवैक्सीनबाहरसेखरीदनीपड़रहीहै।

शहरमेंआवाराकुत्तोंकीसंख्याकेसाथकुत्तोंकेकाटेजानेकीघटनाएंभीलगातारबढ़रहीहैं।लेकिन,मेडिकलकॉलेजअस्पतालमेंएंटीरेबीजवैक्सीननहींहै।ऐसेमेंमरीजयातोबिनाटीकालगाएलौटरहेहैंयाफिरबाहरसेमहंगेदामपरइंजेक्शनखरीदकरलगवारहेहैं।

अस्पतालमेंरोजाना150लोगएंटीरेबीजवैक्सीनलगवानेपहुंचेहैं।इसमें30से40मरीजरोजानानएहोतेहैं।बाकीवहलोगहोतेहैंजोपहलेसेटीकेलगवारहेहैं।कुत्तेकेकाटनेपरघावकेअनुसारतीनसेसातटीकेलगाएजातेहैं।बाजारमेंइसकीकीमत300से350रुपयेकेबीचहोनेकेचलतेगरीबतबकाइसेखरीदपानेमेंअसमर्थहै।चिकित्साअधीक्षकडॉ.केकेटम्टानेबतायाकिजिसकंपनीसेवैक्सीनलीजारहीथी,उसकाटेंडरएकवर्षकाथा।नएटेंडरमेंकोईकंपनीनहींआई।ऐसेमेंपुरानीहीकंपनीसेपत्राचारकियाजारहाहै।

यहभीपढ़ें:आवाराकुत्तोंनेउड़ाईउत्तराखंडकेसीएमकीनींद

यहभीपढ़ें:मेजरनेकीकुत्तोंकीपिटाई,भुगतनापड़गयामुकदमा

यहभीपढ़ें:कुत्तेकोलेकरविवादमेंपत्नीगईबहनकेघर,पतिनेलगाईफांसी

By Ellis