संवादसूत्र,साल्हावास:वीरवारकोक्षेत्रकेअंतर्गतआनेवालेगांवबिरड़मेंआचार्यओमप्रकाशशास्त्रीकीअगुवाईमेंहवनकीशुरुआतहुई।इसअनुष्ठानमेंट्रैक्टरसेघूमघूमकरवेदमंत्रोंवगायत्रीकाजपकियागया।शास्त्रीनेकहाकिवर्तमानसमयमेंकोरोनामहामारीकेभयसेहरकोईजूझरहाहै।ऐसेमेंहवनसामग्रीकेसाथ-साथनीमजैसीबहुउपयोगीऔषधियोंकोयज्ञमेंडालकरपूरेवातावरणकोविषमुक्तकियागया।गायत्रीमहामंत्रवमहामृत्युंजयमंत्रकीगूंजसेगांवकेलोगोंमेंसकारात्मकताकेभावपैदाकरनेकाकामकिया।राजबीरशास्त्रीवराकेशशास्त्रीलोगोंसेमास्कएवंशारीरिकदूरीकेनियमोंकेपालनकाआह्वानकिया।हवनयज्ञमेंनागरमोथा,गुग्गल,चंदनजैसीअनेकऔषधियोंकोडालागया।जिनसेवातावरणकेविषाक्तकीटाणुसमाप्तहोजातेहैं।गांवकेलोगोंनेनीमवगिलोयकीसूखीडालियांभीयज्ञमेंसमर्पितकी।गायकेशुद्धघीसेयज्ञकियागया।हवनमेंगांवकेयुवाओंविशेषरूपसेजयपाल,ओमप्रकाश,रोहित,मोनी,आदेश,अंकित,मोहित,तनुजवसुदर्शनकासहयोगरहा।शहरमेंचलती-फिरतीयज्ञशालासेपूरावातावरणहुआपवित्रएवंभयमुक्त

महाराजमृत्युंज्यगिरीजीनेकहाकिआजजिसतरहसेमहामारीनेअपनेपावफैलाएंहैंऔरलोगोंकोअपनीचपेटमेंलियाहै।यहसमयबड़ीपरेशानीवालाहै।उसीकोदेखतेहुएअबलोगोंनेप्राचीनपद्धतिकोअपनानाशुरूकियाहै,उसीकड़ीमेंसिद्धबाबाप्रसादगिरीमंदिरप्रतिदिनएकयज्ञआहुतियात्रानिकालीजारहीहै।जोकिशहरभरमेंयज्ञकीधूमनीहरघरतकपहुंचानेकाकार्यकररहीहै।बतादेकि31दिनोंतकयहप्रक्रियाचलेगी।जिसमेंशहरसेजुड़ेलोगभीअपनासाथदेरहेहै।

By Dunn