संदीपकेसरीशौर्य,गढ़वा:कोरोनामहामारीनेछात्रछात्राओंकोविद्यालयसेदूरकरदियाहै।महामारीकेकारणविद्यालयबंदहोनेसेबच्चेविद्यालयआकरशिक्षाग्रहणनहींकरपारहेहैं।हालांकिशिक्षाविभागद्वाराऑनलाइनपढ़ाईकीव्यवस्थाकीगईहै।मगरबच्चोंकोऑनलाइनशिक्षाकेमाध्यमसेपर्याप्तजानकारीनहींमिलपारहीहैतथाशिक्षकोंकेसमक्षअपनीकठिनाइयोंकेबारेमेंबतानहींपारहेहैं।इसकोदेखतेहुएरामासाहूउच्चविद्यालयकेविज्ञानशिक्षकसुशीलकुमारनेअनूठीपहलकीहै।विज्ञानशिक्षकसुशीलविद्यालयकेपोषकक्षेत्रमेंरहनेवालेबच्चोंकेगांवजाकरउन्हेंशिक्षाप्रदानकररहेहैं।इसअनूठीपहलसेबच्चोंकाउत्साहचरमपरहैजिनबच्चोंकोविज्ञानविषयमेंकठिनाईहोरहीहै।शिक्षकसुशीलउनकेगांवजारहेहैंतथाशारीरिकदूरीवनियमोंकापालनकरतेहुएबच्चोंकोविज्ञानकीसमुचितजानकारीदेरहेहैं।जिससेबच्चोंमेंविज्ञानकेप्रतिजिज्ञासाबढ़रहीहैतथाबच्चेविज्ञानकेधुरंधरबनरहेहैं।बच्चोंकीकठिनाइयोंकोदूरकरनेकेउद्देश्यशिक्षकसुशीलकुमारनेअपनेविद्यालयकेप्रधानाध्यापकआशुतोषकुमारझासेइसकीअनुमतिलीतथागांव-गांवजाकरबच्चोंकोशिक्षादेनाशुरूकियाहैइसमेंउनकासाथगणितशिक्षकसत्येंद्ररामकाभीमिलाहै।दोनोंशिक्षकजोबरियाउतरीवआसपासकेइलाकोंमेंजारहेहैंतथाबच्चोंकोबारी-बारीसेएकएकघंटेशिक्षादेरहेहैं।इसकेलिएगांवके10से15बच्चोंकीटोलीबनाकरशारीरिकदूरीवनियमोंकापालनकरतेहुएपढ़ाईकराईजारहीहै।इससंबंधमेंसुशीलकुमारनेबतायाकिमार्चमाहसेहीवैश्विकमहामारीकोरोनाकेकारणसभीशैक्षणिकसंस्थानबंदकरदिएगएहैं।परंतु,विभागीयआदेशानुसारसभीविद्यालयोंकोगैरशैक्षणिककार्यसम्पादितकरनेहेतुखोलनेकाआदेशएवंसभीशिक्षकोंकोरोस्टरवारविद्यालयआनेकाआदेशजारीकियागयाहै।सभीशिक्षकोंद्वाराविभागीयआदेशकापालनअभीभीकियाजारहाहै।उनकेमनमेंविचारआयाकिक्योंनहींविद्यालयमेंनामांकितबच्चोंकेगांवटोलेमेंजाकरमुख्यविषयविज्ञानएवंगणितकोपढ़ायाजाए।तबहमनेगणितशिक्षककोभीअपनीयोजनाकोबतायाऔरवेतैयारहोगए।तत्पश्चातहमनेप्रधानाध्यापकआशुतोषझासेअनुमतिली।सप्ताहमेंतीनदिनगांवजाकरहमलोगबच्चोंकोइनविषयोंकीजानकारीदेरहेहैं।इससेबच्चोंएवंअभिभावकोंमेंउत्साहदेखाजारहाहैइसकेमाध्यमसेबच्चोंकीसमस्याओंकानिदानहोपारहाहैजोऑनलाइनपढ़ाईकेदौराननहींहोपारहीथी।

By Duffy