संवादसूत्र,हलसी(लखीसराय):खरीफफसलकीकटाईकेबादकिसानइससमयरबीफसलकीखेतीकररहेहैं।वर्तमानसमयवबदलतेमौसममेंरबीफसलकीबोआईविलंबसेहुईहै।इससेकिसानोंकोबेमौसमपरेशानीहोरहीहै।किसानइसमौसममेंअपनेखेतमेंचना,गेहूं,राई,जई,मक्काआदिकीखेतीकरसकतेहैं।फसलबोआईकेदौरानकिसानोंकोआवश्यकखादऔरपानीकाख्यालरखनाहोगा।कृषिविज्ञानकेंद्रकेप्रभारीप्रधानसहपौधाप्रजननवैज्ञानिकडा.सुधीरचंद्रचौधरीनेअनुसारवर्तमानमेंकिसानअपनेखेतोंमेंगेहूंकेविभिन्नप्रभेदकीफसलकीबुआईकरसकतेहैं।सबौरश्रेष्ठ,एचआइ1563,पीबीडब्लू373,डीबीडब्लू14,डीबीडब्लू187,लोक-1प्रभेदकीबोआईकरसकतेहैं।बोआईकेसमयनेत्रजनकीआधीमात्राएवंस्फुरतथापोटाशकीपूरीमात्राअर्थात87किलोग्रामडीएपी,96किलोग्रामयूरियाएवं33किलोग्रामप्रतिहैक्टेयरम्यूरेर्टआफपोटाशअंतिमजोताईकेसमयइस्तेमालकरें।शेषआधीनेत्रजनपौधाउगनेअर्थातप्रथमसिचाईपर130किलोग्रामयूरियादेनेकीआवश्यकताहै।इसीप्रकारगेहूंकेअलावाचनाकीफसलबोआईकरसकतेहैं।पिछातचनामेंआरभीजी-202एवं303कीबोआईप्रतिहेक्टेयर100किलोग्रामडीएपीकेसाथकरें।राईप्रभेदराजेंद्रसुफल्म,हाईब्रीडमक्का,बाहुवलीकीखेतीकरसकतेहैं।फसलकीबोआईकेपूर्वबीजकोउपचारितअवश्यकरें,ताकिशतप्रतिशतपौधाउगसकें।---

किसानकरेंसावधानी

पछुआहवाचलनेकीस्थितिमेंफसलबोआईकेबादबीजसूखनेकीसंभावनाएंहोतीहै।इसलिएपांच-छहदिनबादखेतोंकीहल्कीसिचाईकरेंताकिबोआईकिएगएबीजकेसहीतरीकेसेअंकुरकेपश्चातउग(जनमेशन)होसके।----

रोगकीसंभावनाएं

चनाकीफसलमेंफलीछेदकबीमारीहोनेकीसंभावनाएंहैं।इसरोगकीरोकथामकेलिएएनपीभी300एमएलप्रतिहेक्टेयरछिड़कावकरें।उसकेएकसप्ताहकेबादइमामेकटिनवेजोएट100एमएलप्रतिहेक्टेयरकीछिड़कावकरें।इसीतरहमसूरकीफसलमेंफफूंदकेआक्रमणसेबचावकेलिएकार्बनडाजीमप्लसमैकोजेबदोलीटर500ग्रामप्रतिहेक्टेयर400लीटरपानीमेंमिलाकरकरनेसेबीमारीकमहोतीहै।डा.निशांतप्रकाश,पौधारोगविशेषज्ञ,कृषिविज्ञानकेंद्रहलसी।

By Edwards