विक्रमबृजेंद्र¨सह,सुलतानपुर:

शहरकीगली-गली,मुहल्ले-मुहल्ले,नुक्कड़-चौराहोंपरआवाराकुत्तोंकेझुंडकबकिधरसेआकरआपकीराहरोकलें।जानजोखिममेंडालदें..कोईठिकानानहीं।गांव-गिरांवकीगलियोंकाभीयहीहालहै।आएदिनहादसेहोतेरहतेहैं।कुत्तोंकेकाटनेसेबेहाललोगजिलाअस्पतालयासीएचसीपहुंचतेहैंतोउन्हेंएंटीरैबीजवैक्सीनभीनहींमिलपाती।लाचारीमेंलेनीपड़तीहैमहंगेदामोंपरबाजारोंसेवैक्सीन।वहींजिम्मेदारमहकमोंऔरप्रशासनकायेहालहैकिउन्हेंअपनेदायित्वकाहीबोधनहींहै।पालिकाकेपासकोईऐसीव्यवस्थाहीनहींहैजोआवाराकुत्तोंपरअंकुशलगाए।कैटिलकैचरकास्टाफहैनहीउपकरणअथवाअन्यसंसाधन।

सड़कों-फुटपाथोंपरआवाराकुत्तोंकाडेरा

सिविललाइनसापॉशइलाकाहोयाशहरकाचौक-घंटाघरबाजारअथवाविवेकनगर,शास्त्रीनगर,खैराबाद,दरियापुर,गोलाघाटजैसेसघनइलाके।हरजगहसड़कहोयाफुटपाथ,आवाराकुत्तोंकीधमाचौकड़ीसरेआमदेखनेकोमिलतीहै।आएदिनइनकीवजहसेनसिर्फहादसेहोतेहैं,बल्कितमामलोगइनकेकाटनेकीवजहसेदहशतमेंआजातेहैं।यहीहालहैकादीपुर,कोइरीपुरवदोस्तपुरनगरपंचायतोंकाभी।हरजगहलोगपरेशानहोचुकेहैं।

बजटकारोना,निकायोंकेपासनहींकोईयोजना

यूंतोआवाराकुत्तोंपरअंकुशलगाने,इनकीधरपकड़करनेकीसीधीजिम्मेदारीसंबंधितनगरपालिका,नगरपंचायतोंवग्रामपंचायतोंकीबनतीहै।बावजूदइसकेधरातलपरकहींभीकोईभीयोजनाअथवासंकल्पनानहींचलरहीहै।पालिकाकेअधिशासीअधिकारीदुर्गेश्वरत्रिपाठीकीमानेंतोअभीतकनतोइससंदर्भमेंशासनसेकोईबजटमिलाऔरनहीकभीसंसाधनहीजुटाएजासके।यंकहेंकिपालिकानेइसकीजरूरतभीकभीनहींसमझी।त्रिपाठीकहतेहैंकिभविष्यमेंयोजनाबद्धढंगसेकार्यकरनेपरविचारकियाजाएगा।उनकेपासआवाराकुत्तोंकाआंकड़ाभीनहींउपलब्धहै।यहीहालअन्यनगरपंचायतोंकाभीहै।

कुत्ताकाटलेतोइलाजरामभरोसे

जीहां!शासनऔरस्वास्थ्यमहकमादावेकुछभीकरे,सच्चाईयहीहै!सीएमओडा.सीबीएनत्रिपाठीबतातेहैंकिजिलेमेंमांगकेसापेक्ष80फीसदएंटीरैबीजवैक्सीनकीकिल्लतहै।भगवाननकरें,यदिदसलोगोंकोऔसतनकुत्तेनेकाटातोसिर्फदोकोहीइसजिलेमेंवैक्सीनमिलपाएगी।वेकहतेहैंकिजोउपलब्धताहै,उसीकेअनुसारशहरएवंग्रामीणांचलकेसरकारीअस्पतालोंमेंवैक्सीनपहुंचाईजारहीहै।

होतीहैपशुओंकीगणना,परकुत्तेकितनेहैंपतानहीं

यूंतोजिलेमेंएक-एकजीव-जन्तुकीगणनापशुपालनएवंपशुचिकित्साविभागकेजिम्मेहै।लेकिनआवाराकुत्तेकितनेहैं?उसकाउसकेपासहिसाबनहींहै।मुख्यपशुचिकित्साधिकारीडॉ.अजीतकुमार¨सहबतातेहैंकिसन्2012कीजनगणनकेअनुसारसामान्यपालतूपशुओंकीगणनाहुई।अन्यपशुओंकीसंख्या8,75,023प्रकाशमेंआई।आवाराकुत्तेनहींगिनेजासके।क्योंकिइसकीजिम्मेदारीहमारीनहींहै।

वनविभागनेभीझाड़ापल्ला

गांव-गांव,गली-गलीआवाराकुत्तोंकीकितनीभीदहशतहो,सरकारीमहकमेअपनीचालहीचलतेहैं।वनविभागमेंप्रभागीयवनाधिकारीकेस्टेनोमनोजबतातेहैंकिहमवन्यजीवोंकेजिम्मेदारहैं।बंदरउत्पातमचाएंतोहमेंआपसूचितकरसकतेहैं।आवाराकुत्तोंकीजिम्मेदारीपालिकावसंबंधितनिकायोंकीहै।

शहरमेंअबकरेंगेकुत्तोंकीधरपकड़

पालिकाध्यक्षबबिताजायसवालकहतीहैंकिअभीतकनतोयहांकांजीहाउसथाऔरनहीआवारामवेशियोंकेनियंत्रणकेलिएस्टॉफयासंसाधन।अबइसपरविचारकियाजारहाहै।आवाराकुत्तोंकीसमस्यासंज्ञानमेंआईहै,इससंदर्भमेंपालिकाइसबावतठोसपहलकरेंगी।

कुत्ताकाटेतोनघबराएं

जिलेकेमुख्यचिकित्साधिकारीडा.सीबीएनत्रिपाठीकहतेहैंकिकुत्ताकाटेतोघबरानानहींचाहिए।यदिपालतूहैतोएकहफ्तेतकउसकीगतिविधिपरनजररखें।यदिकुत्तामरजाताहैयाफिरअसामान्ययापागलहोजाताहैतबएंटीरैबीजवैक्सीनलगानाजरूरीहै।वहींकुत्तापालनेवालेलोगोंकोभीअपनेकुत्तोंकोएंटीरैबीजकेटीकेअवश्यलगानेचाहिए।

By Evans