जागरणसंवाददाता,ज्ञानपुर(भदोही):तीनदिनमेंबिहरोजपुरऔररामपुरगंगाघाटपरपांचजिदगियांकालकेगालमेंसमागईंहैं।इसमेंकौलापुरगांवकेएकपरिवारकाचिरागहीबूझगया।गंगाकिनारेकेघाटजानलेवासाबितहोरहेहैं,कारणघाटोंकेआसपासबालूखननहोनेसेकाफीगहरेगड्ढेहोगएहैं।इनमेंजोएकबारफंसाउसकाबचकरलौटनामुश्किलहोताहै।10वर्षमेंसीतामढ़ीसेलेकरभोगांवगंगाघाटतकहुएहादसोंमें175सेअधिकयुवकऔरमहिलाओंकीजानजाचुकीहै।इसमेंकईकेसुहागउड़गएतोकईबच्चेअनाथहोचुकेहैं।सीतामढ़ी,सेमराध,बिहरोजपुरऔरभोगांवगंगाघाटऐसीघटनाओंकेलिएहाटस्पाटबनगएहैं।हादसाकेबाददो-तीनदिनतकप्रशासनकीओरसेकुछसक्रियताबरतीजातीहै,इसकेबादसबभूलजातेहैं।

2017मेंभटगवांमेंननिहालआएचारबच्चोंकीगंगामेंडूबकरमौतहोगईथी।इसघटनाकोलोगभूलेभीनहींथेकिसीतासमाहितस्थलसीतामढ़ीमेंटहलनेआएतीनयुवकडूबगएथे।जहांगीराबादमेंएकसाथचारबच्चोंकीडूबनेसेमौतहोगईथी।यहतोबानगीभरहै,इसकेअलावाएक-दोकीआएदिनजानचलीजातीहैलेकिनजिलाप्रशासनकीओरसेइसकेलिएकोईबंदोबस्तनहीं।सर्वाधिकधटनाएंगर्मीकेदिनोंमेंहोतीहैं।सीतामढ़ीघाटपरहुईघटनाकेबादतत्कालीनजिलाधिकारीराजेंद्रप्रसादनेबैरिकेडिगकरादीथी।इसकेसाथहीएनडीआरएफऔरजलपुलिसकेलिएप्रस्तावभीशासनकोभेजाथालेकिनअभीतकइसपरकोईनिर्णयनहींलियाजासका।

प्रयागराजसेबुलाईजातीहैएनडीआरएफटीम

गंगामेंडूबनेकीघटनाकेबादरामपुरऔरसीतामढ़ीकेदोगोताखोरकइयोंकीजिदगीबचाचुकेहैं।जबभीहादसाहोताहैतोउससमययहीलोगबुलालिएजातेहैं।परिश्रमभीकरतेहैंलेकिनप्रशासनकीओरसेइनकेलिएकोईव्यवस्थानहींकीगईहै।सीतामढ़ीकेएकगोताखोरकोभूमिआवंटितभीकीगईलेकिनअभीतकउसेकब्जानहींदिलायाजासकाहै।

By Finch