जींद,जागरणसंवाददाता। सरकारीस्कूलोंमेंकोरोनाकालमें2सालोंमेंप्रदेशमेंकरीब4लाखछात्रसंख्याबढ़गई।जिससेशिक्षाविभागऔरसरकारखुशहै।इसउपलब्धिकेलिए5सितंबरकोस्कूलमुखियाओंकोसम्मानितभीकियागया।दूसरीतरफजींदजिलेमेंएकऐसासरकारीस्कूलभीहै,जिसमें6माहसेकोईभीटीचरनहींहै।उसस्कूलकेबच्चोंकोकक्षा6से8वालेटीचरजैसेतैसेकरपढ़ारहेहैं।यहांटीचरभेजनेकोलेकरग्रामपंचायतजिलाअधिकारियोंसेलेकरमुख्यालयडायरेक्टरतककोपत्रलिखचुकीहै।लेकिनअबतकएकटीचरभीनहींभेजागयाहै।

सरकारऔरशिक्षाविभागनेइनछात्रोंकीनहींसुध

हमबातकररहेहैंमालश्रीखेड़ाकेप्राइमरीस्कूलकी।यहांदोटीचरथे।जोमार्चमेंइंटरडिस्ट्रिक्टट्रांसफरकेचलतेचलेगए।उसकेबादयहांकिसीटीचरकीजॉइनिंगनहींहुईहै।पहलीसेपांचवीकक्षातकस्कूलमें38छात्रहैं।सरकारऔरशिक्षाविभागनेइनछात्रोंकीसुधनहींली।साथलगतेमाध्यमिकस्कूलविंगके3शिक्षकइनबच्चोंकोपढ़ारहेहैं।कोरोनाकीवजहसेकक्षाएंलगनहींलगरहीथी।जिसकारणइनबच्चोंकोऑनलाइनहोमवर्कदेनेमेंभीशिक्षकोंकोदिक्कतआई।अगरसरकारीस्कूलोंमेंऐसेहीटीचरोंकीकमीकीवजहसेपरपढ़ाईप्रभावितहुई,तोआनेवालेसमयमेंसरकारीस्कूलोंमेंअभिभावकअपनेबच्चोंकोभेजनेकेलिएकैसेतैयारहोंगे।

सरकारीस्कूलोंमेंटीचर्सकेपदपड़ेखाली

इसविषयमेंशिक्षाविभागऔरसरकारकोगंभीरताकेसाथसोचनाचाहिए।बहुतसेसरकारीस्कूलोंमेंटीचर्सकेपदखालीपड़ेहैं।पिछलेदिनोंपेगांगांवकेसरकारीस्कूलमेंभीइंग्लिशके2टीचरनहींहोनेकीवजहसेग्रामीणोंनेस्कूलपरतालाजड़दियाथा।ग्रामीणोंनेशिक्षाविभागको30सितंबरतकशिक्षकोंकीनियुक्तिकरनेकाटाइमदेतेहुएचेतावनीदीथीकिअगरनियुक्तिनहींहोतीहै,तोबड़ेस्तरपरआंदोलनकियाजाएगा।जिलास्तरपरशिक्षाविभागकेअधिकारीस्कूलोंमेंशिक्षकोंकीनियुक्तिकोलेकरयहकहकरपल्लाझाड़लेतेहैंकिवेअपनेस्तरपरनातोकिसीस्कूलसेटीचरकोडेपुटेशनपरभेजसकतेहैंऔरनाहीट्रांसफरकरनाउनकेअधिकारक्षेत्रमेंआताहै।

By Doyle