संवादसूत्र,उचाना:महाराजाअग्रसेनधर्मशालामेंमंदिरपुजारीअशोकशर्मानेकहाकिजिदगीमेंगुरुकाबहुतबड़ामहत्वहोताहै।आपगाड़ीमेंकहींजारहेहैं।गाड़ीबिगड़जाएऔरआपकोरिपेयरकरनाआताहैतोआपगियर,ब्रेकदेखकरउसेठीककरलेतेहैं।अगरआपकोठीककरनानहींआताहोतोदूसराउपाययहहैकिउसेगैराजमेंलेजाओऔरकिसीमैकेनिककोसौंपदो।वहठीककरदेगा।अपनेजीवनकोअगरआपखुदठीककरसकतेहोतोठीकहैवरनासदगुरुरूपीगैराजमेंचलेजाओ।वहतुम्हेंपशुसेपरमेश्वरबनादेंगे।सतगुरुभीतोजीवनकेमैकेनिकहै।उन्होंनेकहाकिवर्षापहाड़परहोतीहै,लेकिनपहाड़कभीनहींभरते।वहसदारीतेकेरीतेरहतेहैं।नदी,नाले,गड्ढेभरजातेहैं।जोखालीहोतेहैं,वेहीभरतेहैं।संतोंकेप्रवचनमेंपहाड़बनकरमतआना,अहंकारलेकरमतमाना।खालीआओगेतोसंततुम्हेंलबालबभरदेंगे।संततुम्हेंकोईउपदेशनहींदेंगे,बल्किजीवनकाउद्देश्यबताएंगे।आदेशनहींदेंगेबल्किआचरणकापाठपढ़ाएंगे।

By Evans