जेएनएन,बिजनौर।नजीबाबादमेंचलरहीरामलीलामेंमंचनदेखकरदर्शकभावविभोरहोगए।हेखगमृगहेमधुकरश्रेणी,तुमदेखीसीतामृगनैनी..रामलक्ष्मणकेसाथवनमेंघूमतेहुएपशु-पक्षियोंसेसीताकेबारमेंपूछतेहैं।आदर्शरामलीलापरिषदकीओरसेआयोजितरामलीलामेंकलाकारोंनेराम-सुग्रीवमित्रता,बालिवधकीलीलाकासजीवमंचनकिया।राम-लक्ष्मणसीताकीतलाशकरते-करतेशबरीकेआश्रमपहुंचतेहैं।शबरीप्रभुरामकोदेखकरपहचानजातीहैकिरामहीहैजिनकीवहजन्म-जन्मसेप्रतीक्षाकररहीथी।भक्तिवप्रेमभावसेशबरीप्रभुरामकोझूठेबेरखिलातीहैऔरप्रभुरामशबरीदिएबेरप्रेमपूर्वकखातेहैं।शबरीबतातीहैकिऋषिमूकनामकपर्वतपरमहाराजसुग्रीवऔरउनकीसेनारहतीहै।जोसीताकापतालगानेमेंआपकीसहायताकरसकतेहैं।रामऔरलक्ष्मणपर्वतपरपहुंचतेहैं,तोवहांहनुमानउनकोअपनेकंधेपरबैठाकरमहाराजासुग्रीवकेपासलेजातेहैं।जहांपरभगवानरामऔरसुग्रीवकीमित्रताहोतीहै।दोनोंएक-दूसरेकोअपनाकष्टबतातेहैं।रामसुग्रीवकोबालिसेयुद्धकरनेभेजतेहैं,सु्ग्रीवबालिकोयुद्धकेलिएललकारताहै।दोनोंकेबीचभयंकरयुद्धहोताहै,लेकिनसुग्रीवजानबचाकरवहांसेभागनिकलताहैऔरप्रभुरामसेनाराजहोकरकहताहैकिभगवानआपनेबालिकावधक्योंनहींकिया।बालितोउसेजानसेमारदेता।रामकहतेहैकितुमदोनोंभाईदेखनेमेंएकसमानहोइसलिएबाणनहींचलासका।रामसुग्रीवकोमालापहनाकरबालिसेएकबारफिरयुद्धकरनेभेजतेहैं।सुग्रीवकेललकारनेपरबालिऔरसुग्रीवमेंयुद्धहोताहै।प्रभुरामएकहीबाणसेबालिकावधकरदेतेहैं।बालिकावधहोतेहीदर्शकोंद्वाराश्रीरामकेजयकारोंसेवातावरणकोगुंजायमानहोउठताहै।रामलीलामेंकैलाशखन्ना,हरिओमसिघल,नरेंद्रशर्मा,राजेंद्रकर्णवाल,हर्षवर्धनबूटी,शुभमग्रोवर,राजीव,गोविदपाल,अनंत,विनोदआदिकासहयोगरहा।

By Doyle