जागरणसंवाददाता,मथुरा:यूक्रेनपररूसनेहमलाकरदियाहै।मथुराकेकईछात्र-छात्राएंयूक्रेनकेअलग-अलगशहरोंमेंरहकरमेडिकलकीपढ़ाईकररहेहैं।यूक्रेनमेंबुधवाररातसेहमलाशुरूहुआ,तोउसकीगूंजमथुरामेंबैठेछात्रोंकेस्वजनकेकानोंतकगूंजी।हरधमाकेपरछात्रोंसेलेकरस्वजनकीधड़कनबढ़रहीहै।वीडियोकालकेजरिएस्वजनलगातारसंपर्कमेंहैं,लेकिनलाड़लोंकीचितामेंआंखोंकेआंसूनहींथमरहे।ब्रजवासीउनकीसलामतीकेलिएदुआएंकररहेहैं।धमाकेकेसाथटूटीनींद,फिरदर-दरभटकी

शहरकेबीएसएकालेजकेनिकटरहनेवालीडा.नीतागर्गकीबेटीएनीगर्गयूक्रेनकेखारकिवशहरमेंरहकरएमबीबीएसकीपढ़ाईकररहीहै।चारसालसेवहांरहरहीएनीबुधवाररातगहरीनींदमेंथी,तभीघरसेकुछदूरीपरतेजधमाकाहुआ,नींदटूटी।खिड़कीसेझांकातोबाहरधुआंहीधुआं।फोनउठायाऔरमांनीताकोजानकारीदी।एनीअपनीदोमित्रोंकेसाथफ्लैटमेंरहतीहै।फ्लैटछोड़हास्टलजानेलगी,तोपताचलारूसीसेनापेट्रोलिगकररहीहै।फिरअपनीएकमित्रकेघरपररुकी।लेकिनदोपहरबादमित्रनेभीमनाकरदिया।शामतकएनीरहनेकाठिकानाढूंढतीरहीं।बेटीकीचितामेंबिलखरहीनीतानेखानापीनातकछोड़दियाहै।जागरणसेफोनपरहुईबातचीतमेंएनीनेबतायाकिवहकाफीदहशतमेंहै।सुरक्षितठिकानातलाशरहीहैं।धमाकेकीगूंजसेउड़ीस्वजनकीनींद

संसू,कोसीकलां:कस्बेकेआर्यनगरमुहल्लानिवासीकरनकुमारकीबेटीयशिकासिंहभीखारकिवमेंरहकरएमबीबीएसकीपढ़ाईकररहीहै।बीतेवर्षदिसंबरमेंयूक्रेनगईथी।सुबहकरीबछहबजेयशिकानेपिताकोफोनकरधमाकेकीसूचनादी।तबसेपिताकरनसिंह,मांअनीताऔरदोछोटीबहनपरेशानहैं।दिनमेंकईबारकरनकुमारबेटीसेफोनपरसंपर्करहे।पितानेबतायाकि26फरवरीकोभारतआनेकेलिएयशिकाकीफ्लाइटथी,लेकिनअबयुद्धछिड़जानेकेकारणवहनहींआसकी।फिलहालवहसुरक्षितहै।उन्होंनेबतायाकिजबयशिकायूक्रेनगईथीतबफ्लाइटकाकिराया31हजारथा,लेकिनइसबारटिकटके65हजाररुपयेवसूलेगए।बिटियासुरक्षित,स्वजनपरेशान

संसू,बरसाना:बरसानाकस्बेमेंरहनेवालेजगदीशगोयलकीबेटीराधिकाइवानोशहरमेंएमबीबीएसकीपढ़ाईकररहीहै।जागरणसेफोनपरराधिकानेबतायाकिवहएकहास्टलमेंरहरहीहैं।इवानोशहरमेंभारतकेकरीब25सौछात्र-छात्राफंसेहैं।उसनेभारतीयदूतावाससेभीसंपर्ककियाहै।फिलहालसभीसुरक्षितहैं।इवानोशहरमेंरूसीसेनाघुसचुकीहै।एयरपोर्टभीतबाहहोगयाहै।पिताकेसाथहीपूरापरिवारराधिकाकीचितामेंपरेशानहै।संसू,राया:रायानिवासीशिवकुमारअग्रवालकेपुत्रओमऔरबेटीकनकपांचसालसेयूक्रेनकेइवानोयूनिवर्सिटीसेएमबीबीएसकीपढ़ाईकररहेहैं।फिलहालबच्चेपूरीतरहसुरक्षितहैं।लेकिनयुद्धछिड़जानेसेस्वजनबेहदचितित।शिवकुमारनेबतायाकिदिनमेंकईबारबेटेसेसंपर्कमेंहैं।टीवीपरसमाचारोंपरभीनजरलगीहैं।रायामेंहीरहनेवालेसंजयवर्माकेपुत्ररितिकभीपांचसालसेवाईप्रोसिटीकीयूनिवर्सिटीमेंपढ़रहेहैं।रायाकेहीअनुजदीक्षितकेपुत्रसिद्धार्थइवानोशहरमेंपढ़रहेहैं,वहअपनेसाथियोंकेसाथफ्लैटमेंसुरक्षितहैं।बंकरमेंरहकरबचाईजान

संसू,राया-वृंदावन:कस्बेमेंरहनेवालेनवनीतशर्मायूक्रेनकेओडेशाशहरमेंपड़रहेहैं।उनकेपिताअशोककुमारनेबतायाकिसुबहनौबजेउन्हेंबेटेनेहमलेकीजानकारीदी।नवनीतजिसफ्लैटमेंसाथियोंकेसाथरहतेहैं,उसीकेपासधमाकाहुआ।ऐसेमेंनवनीतनेसरकारद्वाराबनाएगएबंकरमेंछिपकरअपनीजानबचाई।उनकीचितामेंस्वजनकीनींदउड़ीहै।

वृंदावनकेसमीपवर्तीगांवकीकीकानगलानिवासीयोगेशकुशवाहछहसालसेयूक्रेनमेंएमबीबीएसकीपढाईकररहेहैं।पिताहरिमोहनसिंहनेबताया,सुबहहमलेकीसूचनाटीवीपरमिली।तबसेबेटेसेसंपर्ककरनेकीकोशिशकररहेहैं,लेकिनसंपर्कनहींहोपारहाहै।उसेदोमाहबादहीभारतलौटनाथा।पूरापरिवारउसकीफिक्रमेंपरेशानहै।नंदगांवकालालभीफंसा

संसू,नंदगांव-फरह:नंदगांवनिवासीराजूसेठकापुत्रलक्ष्मणभीदोसालसेयूक्रेनकेलवीवशहरमेंरहकरपढ़ाईकरताहै।18अगस्तकोहीपिछलेसालगयाथा।हालांकिस्वजनकाकहनाहैकिवहसुरक्षितहै,लेकिनउसकीचितापरेशानकिएहैं।फरहविकासखंडकेगांवशहजादपुरनिवासीहोशियारसिंहकेपुत्रअजितसिंहतरकरकीससुरालयूक्रेनकेकीवशहरमेंहै।दोसालपहलेवहपरिवारसमेतकीवगएथे।पूरापरिवारसुरक्षितहै,लेकिनस्वजनकोचिताहोरहीहै।