नईदिल्ली:हरइम्तिहानमेंकामयाबीकीबुलंदियांछूनेवालीलड़कियांदेशकेसबसेनामी-गिरामीपेशेऔरएजुकेशनमेंइतनीपीछेकैसे?यहसवालआपकेजेहनमेंभीतैरसकताहै,अगरबतायाजाएकिटॉपबिजनेसस्कूल'इंडियनइंस्टिट्यूटऑफमैनेजमेंट(आईआईएम)'मेंदाखिलालेनेवालेस्टूडेंट्समेंसिर्फ10फीसदीलड़कियांहोतीहैं।यानी10लड़कोंकेमुकाबलेसिर्फएकलड़की।मैनेजमेंटएजुकेशनट्रेनिंगइंस्टिट्यूट'करियरलॉन्चर'द्वाराकराईगईएकस्टडीमेंयहबातसामनेआईहै।स्टडीमेंइसकेपीछेदोकारणोंकाहवालादियागयाहै-एकतोएंट्रेंसकेलिएअप्लाईकरनेवालीलड़कियोंकीतादादहीबहुतकमहोतीहै,दूसराउनमेंबिजनेसएप्टिट्यूडकास्तरकाफीनीचेहोताहै।इंस्टिट्यूटकेडायरेक्टरअरिंदमलहरीकेमुताबिकआईआईएमकागेटवेकहेजानेवालेकॉमनएडमिशनटेस्ट(कैट)मेंबैठनेवालीलड़कियोंकीतादादकेमामलेमेंदिल्लीमेंस्थितिथोड़ीबेहतरहै,जहांहरतीनस्टूडेंट्समेंसेएकलड़कीहोतीहै।लेकिनदेशकेअन्यभागोंकारेश्योकाफीनीचेहै।लहरीकहतेहैंकिज्यादातरलड़कियांलिखितपरीक्षापासकरजातीहैं।लेकिनबिजनेसऔरमैनेजमेंटएप्टिट्यूडमेंकमीकीवजहसेवेग्रुपडिस्कशनमेंसफलनहींहोपातीं।गौरतलबहैकिआईआईएममेंएडमिशनकैटकीलिखितपरीक्षाकेसाथ-साथग्रुपडिस्कशनऔरपर्सनलइंटरव्यूमेंहासिलनंबरोंकेआधारपरमिलताहै।देशके40शहरोंमें12,500स्टूडेंट्सपरकराईगईस्टडीमेंपायागयाकिसवालोंकाजवाबदेतेसमयलड़कियांलड़कोंकेमुकाबलेज्यादाइमोशनलहोजातीहैं।करियरलॉन्चरकेफैकल्टीमेंबरअर्जुनबधवानेबतायाकिलड़कियांइंग्लिशयूजेससेक्शनमेंबेहतरपरफॉर्मकरतीहैं,जबकिवेमैथ्ससेक्शनमेंसिर्फअंकगणितकेज्यादासेज्यादासवालोंकाजवाबदेनेकीकोशिशकरतीहैं।लेकिनलड़केमैथकेमामलेमेंज्यादासाउंडदिखतेहैं।वेअलजेब्राऔरजियॉमेट्रीकेपेपरमेंभीअच्छाकरतेहैं।गौरतलबहैकि5000सीटोंकेलिएपरीक्षार्थियोंकीसंख्यापिछलेसालके1लाख90हजारकेमुकाबलेइससाल2लाख30हजारपहुंचगई।यहभीकमदिलचस्पनहींकिकोर्सपूराकरनेकेबादभीबहुतकमलड़कियांहीकॉरपोरेटकारुखकरतीहैं।स्टडीकेमुताबिकज्यादातरलड़कियांएचआरयाएडवरटाइजिंगऔरपब्लिकरिलेशंसजैसीक्रिएटिवफील्डकोहीचुनतीहैं।लहरीकेमुताबिकलड़केऔरलड़कियोंकेबीचकीयहखाईजल्दसेजल्दपाटीजानीचाहिए।इसकेलिएमैनेजमेंटएजुकेशनरिफॉर्मकीसख्तजरूरतहै।